Durga Puja : दुर्गा पूजा अनुष्ठान के साथ-साथ स्वादिष्ट पकवानों का बंगालियों में प्रचलन

Insightonlinenews Desk

दुर्गा पूजा बंगालियों का एक विशेष त्योहार हैं जिसमें पूजा की विधि विधान के साथ खान-पान के लिए 56 प्रकार के स्वादिष्ट पकवानों का बंगालियों में प्रचलन है। पकवानों को अलग-अलग तपके अपनी स्थिति के अनुसार अपने-अपने घरों में तैयार करते है। कहा जाता है कि इस त्योहार के आते ही और व्यंजनों का नाम लेते ही लोगों के मुंह में पानी आ जाता है। दुर्गा पूजा में पंडालों की चमक के साथ-साथ फूड भी एक आकर्षक कोना होता है, जिसकी कमी बंगाल के साथ-साथ देश के बाकी सभी भागों में महसूस की जायेगी। फिर भी बंगाल में दुर्गा पूजा का सही मजा अगर लेना है तो कोलकाता के स्ट्रीट फूड में भी मिलता है जबकि ज्यादातर कोरोना संकट काल में घर पर ही इसे तैयार करने की धारणा सर्वत्र बनी हुई है।

दुर्गा पूजा के अवसर पर पंडालों में बंगाली व्यंजनों को प्रसाद स्वरूप दिये जाने वाले विशेष भोगों में 1. बंगाली भोगर खिचड़ी का भोग अत्यंत पवित्र माना जाता है वहीं बांगाली बैगन भाजा जिसे एक अलग प्रकार से तैयार किया जाता है उसका भी दर्शनार्थी पंडालों में बड़े चाव और उत्साह से भोग करते हैं।

कोरोना काल की व्यवस्था में शायद इस बार इन पवित्र भोगों के उपलब्ध होने की संभावना नहीं होने के कारण बंगाली समुदाय और मां दुर्गा के भक्त अपने-अपने घरों में विधिपूर्वक तैयार करेंगे। बंगाल की पारंपरिक प्रसाद वाली भोगर खिचड़ी हर खिचड़ी के स्वाद को फिका कर देती है और इसे बनाने में भी थोड़ा ज्यादा समय लगता है उसी प्रकार 2. बैगन भाजा भी जिसने प्रसाद में महत्वपूर्ण जगह बनाई है उसका अद्भुद स्वाद दुर्गा पूजा काल में दिखता है।

जी हां, घर में बने भोगर खिचड़ी, बैगन भाजा के साथ-साथ माछेर झोल से लेकर आलू पोस्तो तक, मिष्टी दही से लेकर लुची आलू की लाजवाब तरकारी का लोग दुर्गा पूजा में भरपूर लुत्फ उठाते हैं। बंगालियों की स्पेशल पूजा डिश में कुछ ननभेज भी फेवरेट हैं, मां दुर्गा के भक्तों पर बंगाली परंपराओं का भरपूर असर है यही कारण है कि बंगालियों के साथ-साथ अन्य वर्ग के लोग भी इन व्यंजनों को बनाते हैं और उनका स्वाद पूजा के महत्व के साथ लेते हैं।

  • कुछ महत्वपूर्ण व्यंजन

लूची : लूची तो बंगालियों की सबसे फेवरेट होती है। दुर्गा पूजा के नौ दिन वे अलग-अलग खाने के साथ दिन की शुरुआत करते हैं। मैदा की लूची उनके सुबह के नाश्ते के लिए खास है।

आलू तरकारी : आलू की सब्जी बंगालियों की फेवरेट है। सप्तमी के दिन वे लूची के साथ आलू तरकारी खाते हैं। वैसे तो आम दिनों में भी ये खा सकते हैं, लेकिन पूजा के दौरान ये खास होती है। दरअसल, बंगालियों में अलग-अलग दिन अलग-अलग चीजें खाने का रिवाज होता है।

संदेश : मिठाई में संदेश ना हो तो पूजा अधूरी लगती है। जी हां, दूध या छेने की संदेश। संदेश को आप केशर और बादाम से सजा सकते हैं। अपने घर में भी इसे बना सकते हैं। संदेश मिठाई में सबसे फेमस है।

टैंगरा माछेर झोल : क्या आपको पता है माछेर झोल बंगालियों की सबसे फेवरेट है। लेकिन टैंगरा माछेर झोल दु्र्गा पूजा की स्पेशल डिश है। लाल मिर्च डालकर इसे तीखा सा बनाया जाता है। इसकी ग्रेवी आपके मुंह में पानी ले आएगी। इसको गर्म चावल के साथ खाएं।

शुक्तो : नाम सुनकर अजीब लग रहा होगा, लेकिन ये बंगालियों के खाने में प्रधान है। शुक्तो किसी भी चीज का हो सकता है। बैंगन, आलू, बरी, खेत की कुछ हरी सब्जियों से ये बनती है। इसकी ग्रेवी दूध से बनती है।

मटन बिरयानी : नॉन वेज तो पूजा में खास है। मटन और चीकन की कोई भी चीज बंगालियों को इतनी टेस्टी लगती है कि क्या कहें। देशी घी से बनी मटन बिरयानी आप बगैर खाए नहीं रह सकते हैं। इसके साथ कोई तरी वाली सब्जी जरूर खाएं।

आलू-पटल पोस्तो : आलू पोस्तो तो सबने खाएं होंगे, लेकिन परवल के साथ अगर आलू पोस्तो खाओ तो बात बने। जी हां, पोस्तो को मशाले के साथ पीसकर पहले उसे फ्राइ कर लें, उसके बाद उसे आलू और परवल के साथ भूंज लें। इतनी टेस्टी ग्रेवी वाली सब्जी तैयार हो जाएगी कि क्या कहें। इसमें आप नारियल के टुकड़े डाल दें।

इलिश माछ : इलिश माछ बंगालियों में लोकप्रिय है। इलिश माछेर झोल, हर डिश को पीछे छोड़ सकती है। हिलशा मछली के तेल में इसे फ्राइ किया जाता है। अदरक और लहसून का पेस्ट बनाकर उसमें इसे डिप कर दें।

मोगलाई और रोल : मोगलाई और रोल, ये दोनों बंगालियों का फेमस खाना है। सस्ता का सस्ता और पूजा में स्ट्रीट फूड के तौर पर हर जगह मिलता है। ये डिश कभी पुरानी नहीं होती है। लोगों के मुंह में पानी आ जाता है इन दोनों का नाम सुनकर। कोलकाता वेज रोल और मोगलाई, अंडे की रोल या पनीर रोल भी हो सकती है।

केले के बरे : केले के बरे, कभी सुने हैं आपने, नारियल और केले से बनते हैं। इसमें सुगर और मैदा डाला जाता है। ये एक तरह की मीठा होता है। सुनने में बरे हैं, लेकिन खाने में मीठे का काम करते हैं।

माछेर घंटो : माछेर घंटो तो बहुत ही टेस्टी होता है। मतलब मछली का सिर काटकर उसमें नमक और मिर्च मिलाकर थोड़ी देर रख दें,.तेल में उसे डीप फ्राइ कर लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *