Effect of cyclonic yas : चक्रवाती तूफान यास का मानूसन पर असर, केरल में एक दिन पहले देगा दस्तक

लखनऊ/कानपुर, 29 मई । पश्चिमी तट पर बीते दिनों सक्रिय हुए चक्रवाती तूफान ताउते के बाद पूर्वी तट पर यास तूफान बंगाल की खाड़ी से उत्तर पूर्व भारत की ओर बढ़ा। इससे संभावना बन रही थी कि मानसून को प्रभावित करेगा पर स्थितियां ऐसी बनी कि मानसून प्रभावित होने की जगह एक दिन पहले केरल में दस्तक देने जा रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक 31 मई को केरल में मानसून आगमन की स्थितियां अनुकूल हो रही हैं।

चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कानपुर के मौसम वैज्ञानिक डा. एसएन सुनील पाण्डेय ने शनिवार को बताया कि ताउते और यास चक्रवाती तूफान की वजह से मौसम में आए बदलाव के बीच अब मानसून ने भी दस्तक देने की तैयारी कर ली है। मौसम विभाग आईएमडी की मानें तो इस सोमवार को मानसून केरल में दस्तक देगा। मानसून गुरुवार को मालदीव-कोमोरिन क्षेत्र के कुछ और हिस्सों, दक्षिण-पश्चिम और पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी, दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी के अधिकांश हिस्सों और पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के कुछ हिस्सों में आगे बढ़ गया है।

भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि केरल में 31 मई को मानसून के आगमन के लिए स्थितियां अनुकूल होती दिख रही हैं। आईएमडी के अनुसार केरल में मानसून की शुरुआत की सामान्य तारीख एक जून है, मगर यास की वजह से एक दिन पहले मानसून दस्तक दे सकता है, क्योंकि चक्रवात यास ने अरब सागर के ऊपर मानसून के प्रवाह को खींचने में मदद की है। हालांकि, बारिश के संभावित लेटेस्ट विवरण के साथ दूसरे चरण का मानसून पूर्वानुमान 31 मई को आईएमडी द्वारा जारी किया जाएगा।

मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि अभी 30 मई तक उत्तर प्रदेश में स्थानीय स्तर पर तेज हवा एवं गरज चमक के साथ हल्की वर्षा होने की संभावना हैं।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES