देश में खाद्यान्न का 31 करोड़ 57 लाख टन रिकार्ड उत्पादन का अनुमान

Insight Online News

नयी दिल्ली, 17 अगस्त : केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने वर्ष 2021-22 के लिए मुख्य कृषि फसलों के उत्पादन के चतुर्थ अग्रिम अनुमान जारी कर दिए हैं। इसमें खाद्यान्नों का 31 करोड़ 57 लाख टन रिकार्ड उत्पादन होने का अनुमान है, जो 2020-21 के दौरान के खाद्यान्न उत्पादन की तुलना में 50 लाख टन अधिक है।

वर्ष 2021-22 के दौरान खाद्यान्न उत्पादन पिछले पांच वर्षों (2016-17 से 2020-21) के औसत खाद्यान्न की तुलना में ढाई करोड़ टन अधिक है। चावल, मक्का, चना, दलहन, रेपसीड एवं सरसों, तिलहन, और गन्ना का रिकार्ड उत्पादन अनुमानित है।

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने आज कहा है कि इतनी फसलों का यह रिकार्ड उत्पादन केंद्र सरकार की किसान हितैषी नीतियों के साथ ही किसानों के अथक परिश्रम तथा वैज्ञानिकों की मेहनत का सुफल है।

चतुर्थ अनुमानों के अनुसार वर्ष 2021-22 के दौरान मुख्य कृषि फसलों के अनुमानित उत्पादन चावल का 13 करोड़ टन से अधिक (रिकार्ड), गेहूं 10 करोड़ 68 लाख टन, पोषक/मोटे अनाज पांच करोड़ 90 लाख टन, मक्का तीन करोड़ 36 लाख टन से अधिक (रिकार्ड), दलहन दो करोड़ 76 लाख टन (रिकार्ड), अरहर 43 लाख टन, चना 1.37 करोड़ टन (रिकार्ड), तिलहन तीन करोड़ 77 लाख टन (रिकार्ड), मूंगफली एक करोड़ एक लाख टन से अधिक , सोयाबीन करीब एक करोड़ 30 लाख टन, रेपसीड एवं सरसों एक करोड़ 17 लाख टन (रिकार्ड), गन्ना 43.18 करोड़ टन (रिकार्ड), कपास 3.12 करोड़ गांठें (प्रतिगांठ 170 कि.ग्रा.), पटसन एवं मेस्ता- 1.03 करोड़ गांठें (प्रतिगांठ 180 कि.ग्रा.) है।

वर्ष 2021-22 के दौरान चावल का कुल उत्पादन रिकॉर्ड 13.02 करोड़ टन अनुमानित है। यह विगत पांच वर्षों के औसत उत्पादन की तुलना में 1.38 करोड़ टन अधिक है।

वर्ष 2021-22 के दौरान गेहूं का कुल उत्पादन 10.68 करोड़ टन अनुमानित है। यह विगत पांच वर्षों के औसत उत्पादन की तुलना में करीब तीस लाख टन अधिक है। पोषक/मोटे अनाजों का उत्पादन 5.09 करोड़ टन अनुमानित है, यह विगत पांच वर्षों के औसत उत्पादन की तुलना में 43 लाख टन अधिक है।

वर्ष 2021-22 के दौरान कुल दलहन उत्पादन रिकॉर्ड 2.76 करोड़ टन अनुमानित है जो विगत पांच वर्षों औसत उत्पादन की तुलना में 38 लाख टन अधिक है।

अरुण, उप्रेती, वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *