Fake birth certificate racket unearthed : नकली जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र के धंधे का हुआ खुलासा

Insight Online News

रांची। रांची के सदर अस्पताल की लाग-इन से पिछले दिनों जारी किए गए फर्जी जन्म प्रमाण पत्र और मृत्यु प्रमाण पत्र के तार यूपी और बिहार के शातिरों से भी जुड़ रहे हैं। रांची की लोअर बाजार थाना पुलिस ने इस मामले में उत्तर प्रदेश के कुशीनगर निवासी मेराज अंसारी को गिरफ्तार किया है।

पुलिस के अनुसार मेराज और गोपालगंज निवासी सपना नाम की युवती इस पूरे फजीवाड़े के रैकेट के मास्टरमाइंड हैं। देश के कई राज्यों में इन्होंने अपना नेटवर्क फैला रखा है। पुलिस सपना और गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश कर रही है।

पुलिस के अनुसार मेराज अंसारी सरकारी वेबसाइटों से मिलती-जुलती वेबसाइट बनाकर फर्जीवाड़ा करता है। पुलिस उससे पूछताछ कर मामले की तह तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। मेराज ने देश के बड़े अस्पतालों, कार्यालयों समेत कई महत्वपूर्ण सरकारी वेबसाइटों की क्लोन वेबसाइट बनाकर लोगों को ठगा है।

मेराज ने बताया है कि उसने कई सरकारी वेबसाइटों को हैक कर जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस से लेकर कई अन्य फर्जी दस्तावेज जारी किए हैं। झारखंड के अलावा दूसरे राज्यों में उसका नेटवर्क है। इस काम में उसके साथ दर्जनों लोग शामिल हैं। उधर, मेराज की गिरफ्तारी के बाद कई राज्यों की पुलिस ने रांची पुलिस से संपर्क किया है। रांची पुलिस जल्द ही यूपी और गोपालगंज जाएगी।

मेराज ने पुलिस को बताया है कि वह रांची सदर अस्पताल की वेबसाइट काफी दिनों से खोलने का प्रयास कर रहा था। एक दिन वेबसाइट खोलने में वह सफल हो गया। इसके बाद उसने उस साइट में जाकर 29 लोगों का फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाकर जारी कर दिया। पिछले वर्ष 16 से 18 अगस्त के बीच 29 जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र फर्जी तरीके से जारी हुए थे।

रांची पुलिस ने इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्रालय से सहयोग मांगा था। संयुक्त रजिस्ट्रार से उपकरणों के आइपी एड्रेस व अन्य विवरण मिलने के बाद पुलिस शातिर तक पहुंच सकी। इससे पहले पुलिस ने रांची में स्थित जिला सांख्यिकी कार्यालय से इस मामले में रिपोर्ट लेने की कोशिश की थी, लेकिन सफलता नहीं मिल सकी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *