काशी विश्वनाथ-ज्ञानवापी में शिवलिंग का पाया जाना हिन्दुओं की सबसे बड़ी जीत : साक्षी महाराज

-इस मामले के समाधान के लिए राम जन्मभूमि की तर्ज पर की जाए न्यास कमेटी गठित

ऋषिकेश, 17 मई । उन्नाव से भाजपा के फायर ब्रांड सांसद साक्षी महाराज ने यहां कहा कि हिन्दुओं की आस्था के केंद्र काशी विश्वनाथ-ज्ञानवापी में न्यायालय द्वारा गठित टीम के सर्वे में नंदी के सामने भगवान शिव लिंग का पाया जाना हिन्दुओं की सबसे बड़ी जीत है। अब न्यायालय को राम जन्मभूमि मामले में गठित समिति की तर्ज पर इस मामले को निपटाने के लिए एक समिति का गठन किया जाना चाहिए ।

यह बात भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने मंगलवार को ऋषिकेश स्थित भगवान भवन आश्रम में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि काशी विश्वनाथ की भूमि पर ज्ञानवापी परिसर में न्यायालय के आदेश पर गठित टीम के किए गए सर्वे के बाद मिले साक्ष्यों ने हिन्दू समाज को सुखद और दुखद अनुभव का एहसास करा दिया है ,जहां नंदी द्वारा हजारों वर्षों से की गई उनकी तपस्या फलीभूत हुई है।

उन्होंने कहा कि अब मुस्लिम समाज को भी यह एहसास हो गया है कि मुस्लिम आक्रांताओं ने समाज का मान मर्दन करने के लिए मंदिरों पर आक्रमण कर मस्जिदों का ढांचा खड़ा किया है। ऐसे भारत में लाखों मंदिर हैं, जो कि मुस्लिम आक्रांताओं द्वारा तोड़े गए हैं। उन्होंने कहा कि जब मैं वर्ष 1981 में मथुरा का सांसद था, तो उस समय मैंने एक बात कही थी कि दिल्ली में लाल किले के किनारे जिस जामा मस्जिद का निर्माण किया गया है। वहां भगवान विष्णु का मंदिर है यदि आज वहां खुदाई कर सर्वे किया जाए, तो वहां मूर्तियां ही मिलेंगी।

उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि अगर मेरी बात गलत निकल जाए तो मैं मृत्युदंड की सजा पाने के लिए भी तैयार हूं। लेकिन आज तक किसी भी मुस्लिम समाज के धर्मगुरु ने मेरी बात का खंडन नहीं किया है। उन्होंने कहा कि अब पूरी तरह स्पष्ट हो गया है कि ज्ञानवापी में भगवान भोलेनाथ का ही मंदिर है जिसका समाधान किए जाने के लिए अब अयोध्या के राम मंदिर की तरह एक न्यास कमेटी गठित की जाए और इस मामले का समाधान किया जाए।

उन्होंने कहा कि अब संविधान का असम्मान करने वालों की खैर नहीं है। देश में रहना है तो न्यायपालिका ,कार्यपालिका का सम्मान करना ही होगा । उन्होंने मुस्लिम समाज के लोगों से आग्रह किया है कि वह असुद्दीन ओबैसी जैसे नेताओं के बहकावे में आकर गुमराह ना हों।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.