Future Congress Politics in Himachal Pradesh : हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में कांग्रेस की लीडरशिप में बढ़ेगा युवा नेताओं का रोल

Insight Online News

पार्टी ने इस साल खोए दो कद्दावर नेता, बुजुर्ग नेता चुनावी राजनीति से हो चुके हैं दूर

धर्मशाला : जिला कांगड़ा में इस साल पूर्व मंत्री जीएस बाली और सुजान सिंह पठानिया के रूप में तगड़ा जनाधार रखने वाले दो कद्दावर नेताओं को खो चुकी कांग्रेस पार्टी की लीडरशिप में अब युवा नेताओं का रोल बढ़ने की परिस्थिति स्वतः ही बन गई है।

कांगड़ा जिले से बुजुर्ग कांग्रेस नेता मसलन पूर्व मंत्री चंद्रेश कुमारी, विप्लव ठाकुर, चंद्र कुमार, बृज बिहारी लाल बुटेल आदि चुनावी राजनीति से दूर हो चुके हैं। पूर्व मंत्री विजय सिंह मनकोटिया अरसे पहले कांग्रेस छोड़ चुके हैं। यह सभी नेता उम्रदराज हैं और कभी भी ज़िला की राजनीति में सामंजस्य नहीं बना पाए।

कांगड़ा जिला कुंज बिहारी लाल बूटेल, सत महाजन व पंडित संत राम के रूप में कांग्रेस को प्रदेश अध्यक्ष दे चुका है, लेकिन आज जिला को प्रदेश के कांग्रेस संगठन में कोई मुख्य पद नहीं है।

2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सत्ता की धुरी कहलाने वाले कांगड़ा जिले की 15 विधानसभा सीटों में से महज तीन सीटें ही जीत सकी थी। तब पार्टी की इस दुर्दशा के लिए बड़े नेताओं की आपसी सियासी टसल को जिम्मेदार माना गया था। सबसे बड़े जिले में पार्टी के भीतर कई पावर सेंटर बन गए थे। बीते साल नूरपुर के पूर्व विधायक अजय महाजन को जिला प्रधान बनाया गया जो लो प्रोफ़ाइल रहते हैं व बड़े नेताओं को साथ लेकर चलने का प्रयास करते रहे हैं।

कांगड़ा जिले में कांग्रेस के पास युवा नेताओं की कमी नहीं है। पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा जिले में पार्टी के एकमात्र बड़े ब्राह्मण नेता रह गए हैं जिनका धर्मशाला सहित शाहपुर, जयसिंहपुर, बैजनाथ व जोगिंदर नगर में भी जनाधार है।

मंडी उपचुनाव में जीत से भी सुधीर का कद बढ़ा है जोकि पार्टी वार रूम के प्रभारी थे। पालमपुर के विधायक आशीष बुटेल व कांगड़ा के विधायक पवन काजल के साथ फतेहपुर के नए विधायक भवानी सिंह पठानिया भी युवा नेताओं की पंक्ति में शामिल हो गए हैं। पूर्व विधायक अजय महाजन, संजय रत्न, यादविंदर गोमा के अलावा केवल पठानिया, जगजीवन पाल के कंधों पर भी 2022 के रण में कांगड़ा के दुर्ग पर फिर फतह करने का दारोमदार होगा।

अब आने वाले समय में कांगड़ा के युवा नेता किस रणनीति अपनाते हैं यह भविष्य के गर्भ में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *