Health Benefits of Neem : स्वास्थ्य के लाभकारी और गुणकारी है नीम, बढ़ता है रोगप्रतिरोधक क्षमता

भारत के लगभग हर हिस्से में नीम का पेड़ आसानी से उपलब्ध है। भारत में नीम को “सर्वरोग निवारिणी” के नाम से जाना जाता है जिसका मतलब होता है सभी बीमारियों का इलाजकर्ता। नीम का पेड़ किसी खजाने से कम नहीं है। नीम की पत्ती, छाल और बीज आपको कई स्वास्थ्य लाभ देते हैं। अगर आपको खुद को फिट रखना है तो नियमित रुप से नीम की कुछ पत्तियां खाएं। खासतौर से बारिश के मौसम में नीम का उपयोग जरूर करना चाहिए।

आयुर्वेद की कई दवाओं में नीम का इस्तेमाल किया जाता है। नीम से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। नीम का जूस, काढ़ा और गोली खाने से आपकी इम्यूनिटी मजबूत होती है। इसके अलावा नीम में एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जिससे बैक्टीरियल इंफेक्शन खत्म हो जाते हैं। अगर आप नियमित रुप से नीम का जूस पीते हैं तो इससे आपको वजन घटाने में भी मदद मिलेगी।

  • नीम प्रकृति से ठंडा और औषधीय गुण में कीटनाशक होता है, जानें इसके फायदे-

1 – नीम के पत्ते कीटनाशक होते हैं इसलिए इनका उपयोग अनाज में या कपड़ों के बीच भी रखते सकते हैं।

2 – नीम के तेल का दिया जलाने से मच्छर भाग जाते हैं और डेंगू, मलेरिया से बचाव में मदद मिलती है।

3 – नीम के पत्तों और बेर के पत्तों को पानी में उबालें और फिर ठंडा कर इससे बाल धुलने से बालों का गिरना बंद हो जाता है। इससे बाल काले और मजबूत भी हो जाते हैं।

4- बिच्छू के काटने पर नीम के पत्ते मसलकर या पीसकर काटे गए स्थान पर लगाने से जलन कम होती है और जहर का असर कम होता है।

5- नीम के तेल में थोड़ी मात्रा में कपूर मिलाकर फोड़ा-फुंसी में इस्तेमाल करने से राहत मिलती है।

6- नीम की 20 पत्तियों एक कप पानी में मिलाकर पीने से हैजा ठीक होता है।

7- नीम की छाल जलाकर जो भस्म निकले उसे तुलसी के रस के साथ लगाने से त्वजा के दाग व चर्म रोग ठीक होते हैं।

8- नीम के काढ़े में धनिया और सौंठ का चूर्ण मिलाकर पीने से मलेरिया ज्वर में जल्दी लाभ होता है।

9- नीम की पत्तियां चबाने से रक्त साफ होता है और त्वचा चमकदार होती है।

10- नीम पाउडर में दोगुना मात्रा में सेंधा नमक मिलाकर मंजन करने से पायरिया में लाभ होता है और मुंह की दुर्गंध ठीक होती है।

11-नीम शुगर लेवल को कम करता है, इसलिए यदि आप उपवास कर रही हैं तो नीम का सेवन नहीं करना चाहिए।

12-नीम की पत्ती पथरी की समस्या से निजात दिलाने में बेहद मददगार साबित होता है। यदि आप गुर्दे में पथरी की समस्या से ग्रसित हैं तो नीम की पत्ती का सेवन कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले आप नीम की पत्ती को सुखा लें फिर इसे भूनकर इसकी राख बना लें। अब प्रतिदिन इसकी दो से तीन ग्राम मात्रा गुनगुने पानी के साथ पिएं। इससे आपकी पथरी गलने लगती है और यह इसे बाहर निकालने में मदद करता है।

13- नीम की पत्तियां डायबिटीज के मरीजों के लिए बेहद लाभदायक होती हैं। इसमें ग्लाइकोसाइड्स और एंटी वायरल गुण अधिक मात्रा में पाया जाता है। जो आपके ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने में मदद करता है। साथ ही नीम ग्लूकोज लेवल को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके लिए आपको रोजाना खाली पेट 7 से 8 नीम की पत्तियों को खाना चाहिए। इसके अलावा पानी में पत्तों को उबाल कर पीना चाहिए या फिर पत्तों का रस निकालकर पीना चाहिए। यह डायबिटीज के साथ होने वाली अन्य समस्याओं से भी निजात दिलाता है।

14- नीम के पत्ते अगर खाली पेट खाये जाये, तो यह कैंसर से बचाने के लिए उपयोगी साबित होती है। नीम की पत्तियां कोई नेगेटिव प्रभाव नहीं देती हैं और शरीर से फ्री रेडिकल्स को खत्म करने में सहायक होती हैं। यही वजह है कि इसे खाने से खून साफ़ होता है, जिससे कैंसर से बचाव होता है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *