Health : दिल्ली में मंकीपॉक्स का दूसरा मामला

नयी दिल्ली, 01 अगस्त : राष्ट्रीय राजधानी में मंकीपॉक्स के एक और मामले की पुष्टि हुई है जिसके बाद दिल्ली में संक्रमित मरीजों की संख्या दो हो गई है।

नया मरीज एक अफ्रीकी नागरिक है जो कई वर्षों से दिल्ली में रह रहा है। बुखार और उसकी त्वचा पर छाले दिखने की शिकायत के बाद मरीज को लोक नायक अस्पताल (एलएनएच) में परीक्षण किया गया। सूत्रों के मुताबिक मरीज का हाल ही में अंतरराष्ट्रीय यात्रा का कोई इतिहास नहीं है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “ उनकी रिपोर्ट आज पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) से आई, जिसमें उन्हें मंकीपॉक्स से पीड़ित होने की पुष्टि की गयी।”

अधिकारी ने कहा, “ हमने उसके संपर्कों का पता लगाना शुरू कर दिया है और संक्रमण के स्रोत की पहचान की जा रही है। उसके हाल के संपर्कों की पहचान की जा रही है और उन्हें क्वारंटीन केंद्र में जाने के लिए कहा जाएगा।”

इस बीच, बीमारी के लक्षण दिखने के बाद दो और अफ्रीकी नागरिकों को एनएचएल में भर्ती कराया गया है। सूत्रों ने कहा कि मरीजों को मंकीपॉक्स वायरस होने का संदेह है लेकिन उनकी रिपोर्ट का इंतजार है।

एलएनएच के एक वरिष्ठ डॉक्टर ने यूनीवार्ता से कहा,“ पहले संदिग्ध को शनिवार को भर्ती किया गया था और अन्य दो को अगले दो दिनों में भर्ती कराया गया है। उनके नमूने परीक्षण के लिए एनआईवी भेजे गए थे। उनमें से पहले संदिग्ध में मंकीपॉक्स संक्रमण की पुष्टि हुई है। शेष दो रोगियों की रिपोर्ट जल्द ही आ जाएगी। ”

ताजा मामला राजधानी में पहला मामला 25 जुलाई को पश्चिमी दिल्ली निवासी 34 वर्षीय व्यक्ति के सामने आने के एक हफ्ते बाद सामने आया है। सरकार ने अभी तक दिल्ली में दूसरे मंकीपॉक्स मामले की घोषणा नहीं की है। देश में अब तक मामले की संख्या बढ़कर पांच हो गई है। इनमें से तीन मामले केरल और दो दिल्ली में सामने आए।

केरल में रविवार को मंकीपॉक्स से एक संदिग्ध मौत की भी खबर मिली। राज्य सरकार के अनुसार हाल ही में संयुक्त अरब अमीरात से लौटे एक 22 वर्षीय व्यक्ति की एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान बीमारी के लक्षणों के साथ मृत पाया गया।

राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने संवाददाताओं को बताया कि रोगी का 22 जुलाई को भारत आने से पहले मंकीपॉक्स का टेस्ट पॉजिटिव आया था और उसने इसे अधिकारियों से छिपाया था।

संजय.श्रवण

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published.