हाईकोर्ट के जज ने ली अनाथ हुए चार बच्चों की सुध, योजनाओं का पहुंचाया लाभ

Insight Online News

गुमला, 02 जून : झारखंड हाईकोर्ट के जज अपरेश कुमार सिंह बुधवार को घाघरा पहुंचे। प्रखंड क्षेत्र के राजकीय उत्क्रमित उच्च विद्यालय हापामुनी के प्रांगण में चुंदरी गाँव में कोरोना बीमारी के कारण अनाथ हुए चार बच्चों एवं उनके बुजुर्ग दादा एतवा उरांव से मिलकर उनका हाल चाल जाना। इसके बाद समाज कल्याण विभाग से मिलने वाली योजना से लाभान्वित किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि प्रोजेक्ट शिशु योजना के तहत अधिकारी ये सुनिश्चित करें कि राज्य में कोरोना से अनाथ हुए सभी बच्चों को सरकारी योजनाओं का लाभ मिले। अधिकारी उन तक पहुंचें और अनाथ बच्चों को सुविधा दें। बच्चे पढ़ाई लिखाई कर होनहार बनें और देश की सेवा में आगे आएं । जस्टिस अपरेश कुमार सिंह ने स्व. सोमा उरांव एवं उसकी पत्नी करमी देवी के देहांत के बाद अनाथ हुए बच्चे लालबहादुर उरांव, प्रेम उरांव, फुल कुमारी उरांव एवं गुड़िया उरांव को समाज कल्याण की ओर से दी जाने वाली स्पॉन्सरशिप योजना के तीन माह की राशि छह हजार रुपये के प्रमाण पत्र एवं एक अन्य सामग्री दी। साथ ही वृद्ध दादा एतवा उरांव को बुजुर्गों को मिलने वाली पेंशन सहित अन्य सुविधा दिलवाने का निर्देश उपस्थित उप विकास आयुक्त सजंय बिहारी अम्बष्ठ एवं समाज कल्याण पदाधिकारी सीता पुष्पा को दिये।

उल्लेखनीय है कि घाघरा प्रखंड के चुंदरी नावाटोली में लिट्टू उरांव उर्फ सोमा उरांव की मौत पिछले वर्ष लॉकडाउन में बीमारी से हो गयी थी। लिट्टू उर्फ सोमा उरॉव के मृत्यु के बाद उसकी पत्नी करमी की मौत विगत 14 मई को होने से उनके चार बच्चे अनाथ हो गए।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.