IAS Corruption Update : रांची और पटना के पूर्व उपायुक्त आईएएस डा. प्रदीप कुमार की संपत्ति पर जब्ती की मुहर

Insight Online News

रांची। झारखंड के बहुचर्चित दवा घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सेवानिवृत्त आइएएस अधिकारी डा. प्रदीप कुमार की राजस्थान के उदयपुर में स्थित दो फ्लैट को जब्त किया है। इसमें एक फ्लैट प्रदीप कुमार और दूसरा इनके भाई राजेंद्र कुमार के नाम पर है। डा. प्रदीप कुमार राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य अभियान के निदेशक थे। उनकी रांची, कोलकाता व बेंगलुरु में भी संपत्ति है।

ईडी ने यह कार्रवाई मनी लांड्रिंग एक्ट में की है। सीबीआइ की चार्जशीट के आधार पर ईडी ने इस पूरे प्रकरण की जांच शुरू की थी। जांच में पता चला कि 1991 बैच के आइएएस अधिकारी प्रदीप कुमार ने पटना में जिलाधिकारी रहते हुए काफी संपत्ति अर्जित की थी। पूर्व में ईडी की टीम ने उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनकी एक करोड़ 80 लाख रुपये की चल-अचल संपत्ति को जब्त किया था। इसमें रांची स्थित फ्लैट व बैंकों में जमा रुपये शामिल थे।

डा. प्रदीप कुमार ने अपने रिश्तेदारों के साथ मिलकर यह घोटाला किया है। ईडी के विश्वस्त सूत्रों के अनुसार प्रदीप कुमार अपने भाई राजेंद्र कुमार, कारोबारी श्यामलाल चक्रवर्ती और धर्मेंद्र कुमार धीरज के साथ मिलकर संपत्ति खरीदते थे। उनका रांची में एक, उदयपुर में दो, बेंगलुरु में एक व कोलकाता में एक फ्लैट है।

पूर्व में मंत्री रहे वर्तमान भाजपा विधायक भानूप्रताप शाही भी इसी मामले में संलिप्त हैं और अभी उन्हें कोर्ट से राहत मिली हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *