Get Latest News In English And Hindi – Insightonlinenews

News

जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई: जाफरी

July 31
22:31 2020

बलरामपुर,31 जुलाई: “आवारा है गलियो में मै और मेरी तन्हाई ” जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई” जैसी बेमिशाल शायरी लिखने वाले मशहूर शायर और देश के सबसे बडे साहित्यिक पुरस्कार ज्ञानपीठ से सम्मानित अली सरदार जाफरी ने इन पंक्तियों को लिखते वक्त यह नही सोचा होगा कि उनके इन्तकाल के बाद वह खुद इसकी मिशाल बन जायेगे। साहित्य को पूरा जीवन समर्पित करने वाले अली सरदार जाफरी का पैतृक आवास देखभाल के आभाव मे धूल फाक रहा है। जहाँ कभी नशिस्तो और मुशायरो की महफिले सजती थी आज वहाँ वीरानी पसरी हुई है।

‘एशिया जाग उठा’ और ‘अमन का सितारा’ समेत अनेक कृतियों से हिन्दी-उर्दू साहित्य को समृद्ध बनाने वाले अली सरदार जाफरी का नाम उर्दू अदब के महानतम शायरों में शुमार किया जाता है। उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले में जन्मे अली सरदार जाफरी साहित्य का सर्वोच्च पुरस्कार ज्ञानपीठ पाने वाले देश के तीसरी ऐसे अदीब (साहित्यकार) है जिन्हें उर्दू साहित्य के लिए इस पुरस्कार से नवाजा जा चुका है।स्वर्गीय जाफरी एक अगस्त, 2000 में दुनिया को अलविदा कह गये।

अली सरदार जाफरी ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान अंग्रेजों की यातनाएं झेलीं तो ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ आवाज बुलंद करने पर जेल का सफर किया,आवाज लगाकर अखबार बेचा तो नजर बंद किये गये।

अपने साहित्यिक सफर की शुरुआत शायरी से नहीं बल्कि कथा लेखन से किया था।बहुमुखी प्रतिभा के धनी अली सरदार जाफरी का जन्म 29 नवम्बर सन 1913 को उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले के बलुहा मोहल्ले में हुआ था। जाफरी साहब की कोठी के नाम से मशहूर उनका पैतृक आवास देखभाल के आभाव मे धूल फांक रहा है। जहाँ कभी नशिस्तो व मुशायरो की महफिले सजती थी आज वहा वीरानी पसरी हुई है।

शुरुआत में उन पर जिगर मुरादाबादी, जोश मलीहाबादी और फिराक गोरखपुरी जैसे शायरों का प्रभाव पडा। जाफरी ने 1933 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में दाखिला लिया और इसी दौरान वे कम्युनिस्ट विचारधारा के संपर्क में आए। उन्हें 1936 मेंअलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से निष्कासित कर दिया गया। बाद में उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय से स्नातक की शिक्षा पूरी की।

श्री जाफरी ने अपने लेखन का सफर 17 वर्ष की ही उम्र में शुरू किया। उनका लघु कथाओं का पहला संग्रह ‘मंजिल’ नाम से वर्ष 1938 में प्रकाशित हुई। उनकी शायरी का पहला संग्रह ‘परवाज’ नाम से वर्ष 1944 में प्रकाशित हुआ। आप ‘नया अदब’ नाम के साहित्यिक जर्नल के सह-संपादक भी रहे। वे प्रगतिशील लेखक आंदोलन से जुड़े रहे। वे कई अन्य सामाजिक, राजनैतिक और साहित्यिक आंदोलनों से भी जुड़े रहे। प्रगतिशील उर्दू लेखकों का सम्मेलन आयोजित करने को लेकर उन्हें 1949 में भिवंडी में गिरफ्तार कर लिया गया। तीन महीने बाद ही उन्हें एक बार फिर गिरफ्तार किया गया।

उन्होंने जलजला, धरती के लाल (1946) और परदेसी (1957) जैसी फिल्मों में गीत लेखन भी किया। वर्ष 1948 से 1978 के बीच उनका नई दुनिया को सलाम (1948) खून की लकीर, अमन का सितारा, एशिया जाग उठा, पत्थर की दीवार, एक ख्वाब और पैरहन-ए-शरर और लहू पुकारता है जैसे संग्रह प्रकाशित हुए।इसके अलावा उन्होंने मेरा सफर जैसी प्रसिद्ध रचना का भी लेखन किया। उनका आखिरी संग्रह सरहद के नाम से प्रकाशित हुआ।इसी संग्रह की प्रसिद्ध पंक्ति है ”गुफ्तगू बंद न हो बात से बात चले”।

श्री जाफरी ने कबीर, मीर और गालिब के संग्रहों का संपादन भी किया। जाफरी ने दो डाक्यूमेंट्री फिल्में भी बनाईं। उन्होंने उर्दू के सात प्रसिद्ध शायरों के जीवन पर आधारित ‘कहकशाँ’ नामक धारावाहिक का भी निर्माण किया। जाफरी को वर्ष 1998 में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वे फिराक गोरखपुरी और कुर्तुल एन हैदर के साथ ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित होने वाले उर्दू के तीसरे साहित्यकार हैं। उन्हें वर्ष 1967 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया। वे उत्तरप्रदेश सरकार के उर्दू अकादमी पुरस्कार और मध्यप्रदेश सरकार के इकबाल सम्मान से भी सम्मानित हुए। उनकी कई रचनाओं का भारतीय एवं विदेशी भाषाओं में अनुवाद हुआ।

साहित्यिक संस्था अभिव्यक्ति के अध्यक्ष डॉ०शेहाब जफर ने बताया कि अली सरदार जाफरी एक ऐसा शख्स जो रईस घराने मे पैदा हुआ। मगर गरीबों और मजलूमों से हमददर्दी रखने वाले जाफरी साहब ऐशो आराम की जिन्दगी त्याग कर तहरीके आजादी से जुड गए।स्व०जाफरी न सिर्फ एक बेलौस वतन परस्त इंसान थे बल्कि उर्दू अदब का एक ऐसा रौशन सितारा जो दुनिया-ए- अदब के आसमान पर अपनी आबो ताब के साथ आज भी चमक रहा है,

महान शायर ,साहित्यकार व स्वतंत्रता संग्राम सेनानी अली सरदार जाफरी मुम्बई मे एक अगस्त सन 2000 को दुनिया को अलविदा कह गये।सामाजिक कार्यकर्ता और वरिष्ठ अधिवक्ता सैय्यद अनीसुल हसन रिजवी बताते है कि साहित्यिक सेवाओ के चलते दुनिया ने जाफरी साहब को सिर आखों पर बिठाया लेकिन उन्हें जो सम्मान उनके पैतृक शहर मे मिलना चाहिए था वह उन्हें नहीं मिला।

सं भंडारी

वार्ता

About Author

Bhusan kumar

Bhusan kumar

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad


LATEST ARTICLES

    राशिफल : गुरुवार 13 अगस्त 2020

राशिफल : गुरुवार 13 अगस्त 2020

Read Full Article