International Update : ब्रिटेन में बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले, पीएम जॉनसन ने देश में लगाया पूर्ण लॉकडाउन

लंदन। ब्रिटेन में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए देश में पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की है। ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि देश वायरस के नए स्ट्रेन (रूप) से जूझ रहा है। इस कदम के तहत प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों को भी बंद करना शामिल है जो बुधवार से लागू हो जाएगा। जॉनसन ने यह कदम तब उठाया है जब स्कॉटलैंड ने भी इसी तरह का फैसला लिया है जो मंगलवार की आधी रात से लागू हो जाएगा।

इंग्लैंड की आबादी में से कुछ 44 मिलियन या तीन-चौथाई लोग पहले से ही सबसे कड़े प्रतिबंधों के तहत रह रहे हैं। जॉनसन ने सोमवार को कहा कि हमारे अस्पतालों पर दबाव बढ़ गया है। देश में अस्पतालों में कोविड मरीजों की संख्या 27 हजार तक पहुंच गई है और ये संख्या अप्रैल के मुकाबले 40 फीसदी अधिक है। उन्होंने कहा कि देश में पिछले एक हफ्ते के दौरान मृतकों की संख्या 20 फीसदी बढ़ गई है। कोरोना के नए रूप को काबू करने के लिए हमें अत्यधिक प्रयास करने होंगे। 

वायरस के नए प्रारूप के तेजी से फैलने के कारण शिक्षक संगठन कुछ हफ्ते के लिए देश भर में सभी स्कूलों को बंद करने की अपील कर रहे थे। जॉनसन ने कहा कि अभिभावकों को सोमवार से अपने बच्चों को उन इलाकों के स्कूलों में भेजना चाहिए जहां वे खुले हुए हैं क्योंकि खतरनाक वायरस से बच्चों को खतरा काफी कम है।

उन्होंने रविवार को कहा था कि आगामी हफ्तों में लोगों के लिए कड़े प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं क्योंकि देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या में इस सप्ताहांत 57,725 की वृद्धि हुई वहीं मृतकों की कुल संख्या बढ़कर करीब 75,000 हो गई।

लॉकडाउन के बारे में पूछे जाने पर जॉनसन ने बीबीसी से कहा था कि प्रतिबंध और कड़े हो सकते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा, ऐसा हो सकता है कि अगले कुछ हफ्तों में हमें चीजों को और कड़ा करना होगा। मैं इससे पूरी तरह सहमत हूं। मेरा मानना है कि पूरा देश इससे सहमत है। हमें कई कड़े उपाय करने होंगे। 

उन्होंने कहा, स्कूल सुरक्षित हैं। बच्चों को बहुत कम खतरा है। कर्मचारियों को बहुत कम खतरा है। शिक्षा के लाभ बहुत ज्यादा हैं। 

वर्तमान नियमों के तहत देश के अधिकतर हिस्सों में श्रेणी चार के कड़े उपाय लागू हैं जिसमें अधिकतर व्यावसायिक एवं गैर आवश्यक दुकानें लगभग पूरी तरह बंद हैं। लोगों के अस्पतालों में भर्ती होने की संख्या ज्यादा बढ़ने के कारण सरकारी राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा काफी दबाव में है।

महामारी से निपटने का बचाव करते हुए जॉनसन ने कहा कि उनकी सरकार ने ऐसे सभी उपयुक्त कदम उठाए हैं जो हम सर्दी के महीनों की तैयारी के लिए कर सकते थे। प्रधानमंत्री खुद कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे और उन्हें इससे उबरने में कुछ हफ्ते लग गए थे।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES