Jharkhand : झारखंड के नौ कोल ब्लॉक समेत 38 खदानों की नीलामी 30 सितंबर से


नयी दिल्ली : वाणिज्यिक खनन के लिए नीलाम किये जाने वाले 38 कोयला खदानों में से 23 खदानों की 30 सितंबर से आॅनलाइन बोली शुरू हो जायेगी। कोयला मंत्रालय ने मंगलवार को जानकारी दी कि 38 में से 23 कोयला खदानों के लिए आॅनलाइन बोली 30 सितंबर से शुरू हो जायेगी। इन 23 कोयला खदानों के लिए 46 कंपनियों से 82 बोलियां प्राप्त हुई हैं। ये बोलियां आॅफलाइन या अधिकृत प्राधिकरण के कार्यालय को प्राप्त हुर्इं। मंत्रालय ने बताया कि 20 कोयला खदानों के लिए दो या उससे अधिक बोलियां प्राप्त हुई हैं। शेष 15 कोयला खदानों के लिए एक भी बोली नहीं लगी। मंत्रालय के मुताबिक आॅनलाइन बोली में वहीं कंपनियां शामिल हो पायेंगी, जिन्होंने आॅफलाइन बोली भी लगायी है यानी हर कंपनी को कोयला खदान के लिए आॅनलाइन और आॅफलाइन दोनों तरीके से बोली लगाना अनिवार्य है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक कोयला खदानों की नीलामी में दिग्गज कंपनियों के अलावा छोटी और मंझोली कंपनियां तथा कोयला खनन क्षेत्र से बाहर की कंपनियों ने भी बोली लगायी है।

आॅफलाइन बोली लगाने की प्रक्रिया मंगलवार अपराह्न दो बजे समाप्त हो गयी। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गत 18 जून को वाणिज्यिक खनन के लिए 41 कोयला ब्लॉक की नीलामी प्रक्रिया का शुभारंभ किया था। कोयला मंत्रालय ने इस माह की शुरुआत में इस सूची को संशोधित करते हुए पांच कोयला खदानों को सूची से हटाकर तीन नये कोयला खदानों को शामिल किया था, जिससे नीलामी की सूची में 38 कोयला खदान रह गये थे। कोयला मंत्रालय द्वारा पहले जारी सूची में से मोरगा दक्षिण, फतेहपुर पूर्व, मदनपुर (उत्तर) मोरगा-2 और सयांग के कोयला खदानों को हटा दिया गया था तथा छत्तीसगढ़ के दोलेसरा, जेरकेला और झारपालम-तांगरघाट कोयला खदानों को शामिल किया गया था।

नयी सूची में झारखंड के ब्रह्मडीह, चमला, चितरपुर, चोरीटांड तिलैया, गोंडुलपारा, उत्तरी धादु, राझरा उत्तर, सेरगढ़ा, उरमा पहाड़ीटोला कोयला खदान, ओड़िशा के चेंदीपाड़ा, मच्छाकाटा और महानदी, राधिकापुर (पूर्व), राधिकापुर (पश्चिम), ग्राह्मणबिल और करदाबहल तथा कुरालोई (ए) उत्तर कोयला खदान, मध्य प्रदेश के उरतन, मरवाटोला सेक्टर छह और सेक्टर आठ, धिरौली, बांधा, उरतन उत्तर, थेसगोडा -बी/ रुद्रपुरी, शाहपुर पूर्व, शाहपुर पश्चिम, मरकी बड़का, गोतितोरिया पूर्व और गोतितोरिया पश्चिम कोयला खदान, छत्तीसगढ़ के गरे/पाल्मा चार/1 और गरे पाल्मा चार/7, शंकरपुर भटगांव 2 एक्सटेंशन, सोंधिया, दोलेसरा, जेरकेला, झारपालम तांगरघाट कोयला खदान तथा महाराष्ट्र के तकली जेना बेलोरा (उत्तर) और तकली बेलोरा (दक्षिण) और मरकी मंगली 2 कोयला खदान शामिल हैं।

इनसाइटऑनलाईनन्यूज/एजेन्सी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *