Jharkhand Congress Update : निजी अस्पतालों के संचालकों की मनमानी, चिंता का विषय , रामेश्वर

Insight Online News

रांची, 24 अप्रैल : कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और वित्त तथा खाद्य आपूर्ति रामेश्वर उरांव ने शनिवार को बरियातू स्थित अपने आवास में पार्टी के सभी जिलाध्यक्षों, जोनल कोर्डिनेटर, कार्यकारी अध्यक्षों के साथ वर्चुअल बैठक की। इस दौरान विभिन्न जिलाध्यक्षों और पार्टी नेताओं की ओर से प्रदेश अध्यक्ष से यह शिकायत की गयी कि आपदा की इस घड़ी में निजी अस्पतालों द्वारा मनमानी की जा रही है।

पार्टी नेताओं ने बताया कि कई निजी अस्पताल द्वारा ऑक्सीजन रहने के बावजूद ऑक्सीजन सिलेंडर मरीजों को नहीं उपलब्ध कराया जा रहा है। बेड और वेंटिलेंटर उपलब्ध कराने में भी मनमानी की जा रही है। इन अस्पतालों में दलाल सक्रिय है और लोगों से मोटी रकम वसूली जा रही है। उरांव ने पार्टी नेताओं की इस भावना से स्वास्थ्य मंत्री और सचिव को भी अवगत कराने का भरोसा दिलाते हुए कहा कि आपकी भावनाओं से अवगत कराया जाएगा।
राज्य के डाक्टर एवं नर्स अपनी जान की परवाह किए बगैर लोगों की सहायता कर रहे हैं लेकिन निजी अस्पतालों के संचालकों की मनमानी के पूरे राज्य से मिल रही शिकायत चिंता का विषय है। वर्चुअल मीटिंग के दौरान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष केशव महतो कमलेश, प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे,लाल किशोर नाथ शाहदेव, राजेश गुप्ता एवं अमूल्य नीरज खलखो उपस्थित थे। जबकि वर्चुअल मीटिंग का संचालन प्रदेश कांग्रेस सोशल मीडिया कोर्डिनेटर गजेन्द्र सिंह ने किया।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को वर्चुअल बैठक में राज्यभर के पार्टी पदाधिकारियों एवं जिला अध्यक्षों ने बताया कि निजी अस्पतालों के खिलाफ लगातार यह शिकायत मिल रही है कि कोरोना संक्रमित मरीजों और उनके परिजनों से एक-एक दिन में 70 हजार से एक लाख रुपये तक वसूल रहे है। जबकि पूर्व में ही राज्य सरकार द्वारा इलाज का दर तय कर दिया था। उरांव ने कहा कि इस संबंध में वे स्वास्थ्य मंत्री और सचिव से बात कर सभी निजी अस्पतालों को भी सरकार द्वारा निर्धारित दर की सूची को अस्पताल में टंगवाने कि इसके प्रचार-प्रसार करवाने का काम किया जाएगा।

उरांव ने कहा कि अभी सबसे जरूरी है कि लोगों को कोरोना का टीका लगाया जाए लेकिन लोगों में टीकाकरण को लेकर कई भ्रांतियां है। उसे दूर करने की जरूरत है। लोगों को यह बताना होगा कि देश के वैज्ञानिकों ने सुरक्षित टीके की खोज की है और इससे 65 फीसदी से अधिक लोगों का बचाव हुआ है। टीका लेने के बाद जान जाने का खतरा भी नहीं होता है। टीकाकरण कार्य में पार्टी कार्यकर्त्ताओं की महत्वपूर्ण जिम्मेवारियां होगी।
उन्होंने जिला अध्यक्षों को निर्देश दिया है टीकाकरण में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भागीदारी सुनिश्चित करें। होर्डिंग्स लगाकर लोगों को यह बताया जाएगा कि कैसे प्रोटोकॉल का पालन करना है। लोगों को जागरूक किया जाएगा और कोरोना संक्रमण से बचाव में एकजुटता के साथ काम करने की अपील की जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश स्तरीय कंट्रोल रूम की तरह ही जिला स्तर पर भी कंट्रोल रूम के माध्यम से कोरोना पीड़ितों को सहायता पहुंचाई जायेगी।

रांची में मरीजों की लगातार बढ़ती संख्या पर उन्होंने कहा कि कोरोना का दूसरा फेज भयानक है। लेकिन साथ ही साथ झारखण्ड के विभिन्न जिलों यथा चतरा, हजारीबाग, रामगढ़,दुमका, धनबाद, सहित अन्य जिलों से भी डाक्टर मरीजों को रांची भेजकर अपनी जिम्मेदारियों से भागते हैं, जो उचित नहीं है। जिलों के सिविल सर्जन को चाहिए कि वे अस्पतालों को एक्टिव करें।

इस दौरान विभिन्न जिलाध्यक्षों की ओर से भी कई सुझाव दिये गये।
देवघर के जिलाध्यक्ष ने भाजपा सांसद डॉ. निशिकांत दूबे द्वारा बेवजह अड़चन डालने की भी शिकायत की गयी। वहीं अधिकांश जिलाध्यक्षों ने ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड, इंजेक्शन, दवा और वेंटिलेटर की कमी का जिक्र किया और इन खामियों को दूर करने के लिए राज्य सरकार से तत्काल पहल करने की मांग की ।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *