Jharkhand Congress Update : झारखंड से गहरा नाता रहा है पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का : रामेश्वर उरांव

रांची, 21 मई । भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर शुक्रवार को रांची स्थित प्रदेश कांग्रेस भवन में सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए सादगी से उन्हें पार्टी नेताओं-कार्यकर्ताओं की ओर से श्रद्धांजलि दी गयी। सबसे पहले राजीव गांधी के चित्र पर माल्यार्पण किया गया एवं दीप प्रज्ज्वलित किया गया। साथ ही पुष्प अर्पित कर भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी गई।

प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और वित्त एवं खाद्य आपूर्ति मंत्री रामेश्वर उरांव ने श्रद्धांजलि समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का झारखंड से गहरा नाता रहा है। उनके प्रयास से ही पहले झारखंड स्वायतशासी परिषद का गठन हुआ और बाद में अलग राज्य गठन का मार्ग प्रशस्त हुआ। उन्होंने कहा कि देश और झारखंड में रहने वाले आदिवासियों के विकास के प्रति वे हमेशा चिंतित रहते थे। उन्होंने कई बार गुमला, सिमडेगा और खूंटी जैसे आदिवासी बाहुल इलाकों का दौरा किया। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के प्रयास से ही 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को लोकतंत्र में महत्वपूर्ण भागीदारी मिल पायी और सूचना तथा तकनीकी के क्षेत्र में भारत जो आज दुनिया भर में अग्रणी है, उसका श्रेय में भी उन्हें ही जाता है।

मौके पर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि उन्होंने जनसेवा और देशसेवा के कार्यों को आगे बढ़ाने का काम किया था। इसलिए आज उन्हें न सिर्फ कांग्रेस, बल्कि पूरा देश याद कर रहा है। उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में नेतृत्वकर्त्ता की पहचान भविष्य की जरूरतों को पहचानने और उस दिशा में कदम आगे बढ़ाने को लेकर होती है।

कृषिमंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री के रूप में राजीव गांधी ने 21 वर्ष की जगह 18 वर्ष के विद्यार्थियों-युवाओं को वोट का अधिकार दिया और सूचना क्रांति के माध्यम से बड़े बदलाव की आधारशिला रखी थी। आज दो सेकेंड में दुनिया भर से संपर्क स्थापित हो सकता है।

प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने कहा कि 21वीं सदी में एक शक्तिशाली एवं उन्नत भारत के स्वप्न दृष्टा युद्ध रहित और सहयोग पूर्ण विश्व के आकांक्षी तथा एक स्वस्थ अंतरराष्ट्रीय संगठन के महान समर्थक राजीव गांधी भारत के ही नहीं वरन विश्व के एक महान विभूति थे। देश की राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक समस्याओं को राजीव गांधी ने निश्चय और खुले मस्तिष्क से सुलझाने का प्रयास किया।

प्रवक्ता लाल किशोर नाथ शाहदेव ने कहा कि भारत को विखंडित करने वाली सांप्रदायिक तथा आतंकवादी गतिविधियों से जूझने और उन पर प्रभाव कारी नियंत्रण स्थापित करने की दिशा में राजीव गांधी जीवन पर्यंत प्रयत्नशील रहे। पूर्ण सफल रहे तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। इससे पहले प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष की ओर से रांची के चांदनी चौक में गरीबों के बीच मास्क, सैनिटाइजन और अन्य सामग्रियों का भी वितरण किया गया।

(हि. स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES