Jharkhand Corruption/Crime Update : उम्रकैद की सजा काट रहे झारखंड के पूर्व मंत्री एनोस एक्का को एक अन्य मामले में रांची के सीबीआई कोर्ट ने 7 साल की सजा सुनाई

एनोस एक्का की दो संपत्ति ईडी ने जब्त की, पैरोल खत्म होने के बाद जेल भेजे गए

Insight Online News

रांची। आय से अधिक संपति के मामले में सजायाफ्ता पूर्व मंत्री एनोस एक्का की सिमडेगा स्थित दो संपति को ईडी ने जब्त किया है। गुरुवार की दोपहर ईडी की टीम ने जब्त संपति पर ईडी का बोर्ड लगाकर अटैच कर लिया है। ईडी ने गोतरा मौजा स्थित 22 डिस्मिल जमीन और सलडेगा मौजा स्थित साढे चार डिस्मिल जमीन को अटैच किया है। बीते माह एनोस एक्का एक माह की पैरोल पर जेल से बाहर आये थे। पैरोल अवधि खत्म होने के बाद गुरुवार को एनोस एक्का वापस जेल भेज दिए गए थे।

गौरतलब है कि आय से अधिक संपति के मामले में सीबीआई की कोर्ट ने एनोस एक्का एवं उनके परिजनो को सात साल कैद की सजा सुनाई है। जिसके बाद से सभी लोग होटवार स्थित जेल में हैं। ईडी के द्वारा पहले भी एनोस एक्का के रांची, दिल्ली, सिमडेगा स्थित संपतियो को जब्त किया जा चुका है। जानकारी के अनुसार वर्ष 2005 में पहली बार कोलेबिरा से विधायक बनने के बाद एनोस एक्का अर्जुन मुंडा के नेतृत्व में बने सरकार में कैबिनेट मंत्री बने थे। इसके बाद पुन: मधु कोडा की सरकार में भी मंत्री थे।

वर्ष 2009 में एनोस एक्का पर सीबीआई ने आय से अधिक संपति का मामला दर्ज किया था। सीबीआई की चार्जशीट के आधार पर ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था। वर्ष 2020 में सीबीआई की कोर्ट ने एनोस एक्का और उनकी पत्नी मेनोन एक्का सहित परिवार के छह लोगो को सात साल कैद की सजा सुनाई थी। सजा सुनाए जाने के बाद वर्ष 2020 से ही सभी लोग होटवार स्थित जेल में है।

  • आय से अधिक सम्पति मामले में 7 साल की सजा, 2 करोड़ का जुर्माना

पूर्व मंत्री एनोस एक्का को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सात साल की सजा हुई है। कोर्ट ने उन पर दो करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया है। पूर्व मंत्री मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आरोपित हैं। एनोस पर 20 करोड़ 31 लाख 77 हजार रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है।

  • 21 मार्च 2020 को हुई थी सजा, हत्याकांड में उम्रकैद

21 मार्च 2020 को अदालत ने एनोस को दोषी करार दिया था। लॉकडाउन के कारण चार बार सजा के एलान की तिथि बढ़ानी पड़ी थी। ईडी ने अक्टूबर 2009 में एनोस के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। ईडी ने 56 गवाहों के बयान दर्ज कराए। एनोस ने अपने पक्ष में 71 गवाहों को पेश किया था। एनोस एक्का उनकी पत्नी मेनन एक्का सहित परिवार के पांच सदस्य आय से अधिक संपत्ति मामले में होटवार जेल में सात साल की सजा काट रहे हैं। इससे पहले पारा टीचर मनोज नगेशिया की हत्या के मामले में भी एनोस एक्का को उम्रकैद की सजा मिली है। पीएलएफआई से सांठगांठ कर मनोज नगेशिया की हत्या की गई थी।

एनोस एक्का की दागदार कहानी पर एक विशेष रिपोर्ट इनसाईट ऑनलाइन द्वारा पाठकों की मांग पर जल्द जारी….

Leave a Reply

Your email address will not be published.