Jharkhand Crime News : चोरी के शक में युवक की पीट-पीटकर हत्या मामला, एसएसपी ने दरोगा समेत तीन पुलिसकर्मी को किया निलंबित

रांची, 09मार्च । कोतवाली थाना क्षेत्र में पिकअप वैन चोरी के शक में सचिन वर्मा की पीटकर हत्या मामले में एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा ने लापरवाही बरतने के आरोप में दरोगा सहित दो जमादार को सस्पेंड कर दिया है। मामले की निष्पक्ष जांच के लिए दूसरे डिवीजन के इंस्पेक्टर को जिम्मा सौंपा गया है।

जांच की पूरी मॉनिटरिंग सिटी एसपी सौरभ को करने को कहा गया है। एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा ने देर रात यह कार्रवाई की। निलंबित हुए दारोगा में वैभव सिंह, जमादार विजय शंकर सिंह और जमादार विश्राम तिग्गा शामिल है। मामले में पुलिस ने चार नामजद आरोपितों को गिरफ्तार भी कर लिया है।

उल्लेखनीय है कि कोतवाली थाना क्षेत्र के जयपाल सिंह स्टेडियम के समीप रहेवाले प्रभु राम के पुत्र सचिन वर्मा उर्फ गोलू(22) पर पिकअप वैन चोरी का आरोप लगाकर मारपीट की गई थी और थाने के हाजत में बंद कर दिया गया था। सोमवार को युवक की मौत हो गई थी। बताया जाता है कि मोटिया मजदूरों ने युवक को चोरी के आरोप में पकड़ा। उसके बाद 30-40 मोटिया मजदूरों ने रविवार रात उसकी पिटाई की थी। उसे बांध कर रखा गया और सोमवार सुबह तक लाठी-डंडा, पटरा, पेचकश से मारा और सिगरेट से दागा गया था। सुबह में इसकी जानकारी पीसीआर को दी गयी थी।

पीसीआर सचिन को पकड़ कर थाना लायी और हाजत में भी उसकी पिटाई की । वहां उसकी मौत हो गयी। जानकारी मिलते ही मां अनु देवी भी पहुंची और सचिन को पानी पिलाना चाहा तो उसे पानी पिलाने भी नहीं दिया गया। मौत की जानकारी मिलते ही परिजन, काफी संख्या में मुहल्ले के महिला-पुरूष व बच्चे जमा हो गये और थाना में घंटो हंगामा किया था। परिजनों ने आरोप लगाया कि जब उसे थाना लाया गया था , तो वह जिंदा था,पुलिस वालों की पिटाई से उसकी मौत हुई है।

सोमवार को सचिन का जन्मदिन भी था। घटना के बाद मुहल्ले के लोग परिजनों ने आरोपियों के घर तोड़ दिया और उनका सामान निकाल कर कुआं में और बाहर फेंक दिया। इधर, इस संबंध में कोतवाली थाना में सचिन उर्फ गोलू की मां अनु देवी के बयान पर चार नामजद अलेखदेव राय उर्फ आलोक, पिकअप वैन के मालिक मनोज साव, इंद्रजीत कुमार, सतेंद्र राय तथा 30-40 अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी थी।

कोतवाली थाना प्रभारी शैलेश प्रसाद ने इस संबंध में बताया कि हमने सचिन का इलाज कराने के लिए तुंरत सदर अस्पताल भेज दिया था। वहां इलाज के क्रम में उसकी मौत हो गयी थी । थाना में उसके साथ मारपीट नहीं की गयी थी। हमने तो परिजनों को समझाया और त्वरित कार्रवाई करते हुए अलेखदेव राय उर्फ आलोक तथा मनोज साव को गिरफ्तार कर लिया।

मृतक के परिवार को जितनी मदद हो सकेगी ,पुलिस करने को तैयार है। हंगामा कर रहे महिला-पुरूष बच्चे मारपीट करने वाले पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने, आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने की मांग कर रहे थे। कुछ देर के लिए शव के साथ कोतवाली थाना के सामने रोड जाम भी कर दिया गया था। बाद में पूर्व वार्ड पार्षद राजन वर्मा ने लोगों को समझाया तो मामला शांत हुआ।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *