Jharkhand : बूढ़ा पहाड़ पहुंचे डीजीपी, जांबाज जवानों को किया सम्मानित

राज्य में नक्सलियों के लिए कोई जगह नहीं: डीजीपी

रांची, 18 सितम्बर। डीजीपी नीरज सिन्हा रविवार को बूढ़ा पहाड़ पहुंचे और झारखंड पुलिस एवं सीआरपीएफ के जांबाज जवानों को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि राज्य में नक्सलियों के लिए कोई जगह नहीं है और उन पर चौतरफा प्रहार जारी रहेगा। सुरक्षाबलों के मनोबल और इच्छाशक्ति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की प्रतिकूल मौसम, भारी बारिश और आंधी तूफान के बावजूद भी अभियान जारी है और नक्सली भाग रहे हैं।

डीजीपी के नेतृत्व में एडीजी अभियान संजय आनंद लाठकर, आईजी सीआरपीएफ अमित कुमार, आईजी अभियान अमोल वेणुकांत होमकर, एसपी शिवानी तिवारी हेलीकॉप्टर से बूढ़ा पहाड़ पहुंचे। सभी अधिकारियों ने माओवादी नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की रणनीति बनाई। साथ ही सुरक्षाबलों के कैंप का निरीक्षण कर जांबाज जवानों का पुरस्कृत कर हौसला बढ़ाया। उन्होंने स्थानीय ग्रामीणों की समस्याओं का निराकरण करने का आश्वासन दिया। सुरक्षाबलों के द्वारा उन्हें पूरी सुरक्षा दी जाएगी। उन्होंने ग्रामीणों के बीच रोजमर्रा की चीजों का वितरण भी किया।

उल्लेखनीय है कि यह इलाका झारखंड छत्तीसगढ़ सीमावर्ती माओवादी नेताओं का शरण स्थली रहा है। इस सुरक्षित पनाहगार में माओवादियों के पोलित ब्यूरो और सेंट्रल कमेटी के सदस्य विध्वंसक करवाई की रणनीति बनाकर घटना को अंजाम देते थे। बरामद बंकर और शस्त्रागार सुरक्षा बलों द्वारा ध्वस्त कर दिया गया है। नक्सलियों के ट्रेनिंग कैंप के रूप में मशहूर इस इलाके से कई फौजी दस्ते तैयार कर झारखंड के दूसरे क्षेत्रों में भेजे जाते थे। संयुक्त अभियान दल कोबरा, झारखंड जगुआर और सीआरपीएफ के साथ लातेहार- गढ़वा पुलिस ने पहाड़ के निचले हिस्से में रणनीति के तहत पहले धीरे-धीरे कैंप स्थापित किया।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *