Jharkhand : ईडी ने जेल अधीक्षक और एएसआई से की पूछताछ

पंकज मिश्रा और मंत्री आलमगीर के खिलाफ जांच बंद करने का फैसला वरीय अधिकारियों का

रांची, 05 दिसम्बर। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार को रांची के क्षेत्रीय कार्यालय में बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल के अधीक्षक हामिद अख्तर और जांच अधिकारी सह झारखंड पुलिस के एएसआई सरफुद्दीन खान से पूछताछ की। जेल अधीक्षक से रिम्स में पंकज मिश्रा के फोन से किये गये बातचीत के बारे में पूछताछ की गयी। साथ ही रिम्स में बात करते फुटेज के बारे में भी पूछा। सूत्रों ने बताया कि दोनों से लगभग सात घंटे तक पूछताछ की गयी।

ईडी को पूछताछ में जांच अधिकारी खान ने बताया कि बरहरवा टोल प्लाजा मामले में व्यवसायी शंभू नंदन ने प्राथमिकी दर्ज करायी थी। प्राथमिकी के 24 घंटे के भीतर साहिबगंज पुलिस ने मंत्री आलमगीर आलम और पंकज मिश्रा को क्लीन चिट दे दी थी। जांच की निगरानी कर रहे डीएसपी प्रमोद मिश्रा ने बिना किसी प्रारंभिक जांच और डिजिटल साक्ष्य के पंकज मिश्रा को क्लीन चिट दे दी थी। प्रमोद मिश्रा बरहरवा के डीएसपी के पद पर तैनात थे। खान ने ईडी को बताया कि पंकज मिश्रा और आलमगीर आलम के खिलाफ जांच बंद करने का फैसला उनके वरीय अधिकारियों का था।

उल्लेखनीय है कि 22 जून 2020 को बरहरवा पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। अगले दिन मामले की निगरानी हुई और उसके अगले ही दिन संबंधित डीएसपी ने मंत्री आलमगीर और पंकज मिश्रा को क्लीन चिट दे दी थी। जल्द ही मामले को लेकर ईडी डीएसपी प्रमोद मिश्रा को समन कर सकता है। साहिबगंज जिले में दर्ज बरहरवा टोल प्लाजा का मामला उन मामलों में शामिल है, जिनकी ईडी अवैध पत्थर खनन घोटाले के दौरान जांच कर रही है।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *