Jharkhand : झारखंड विधानसभा का विस्तारित मानसून सत्र शुक्रवार को

रांची, 10 नवंबर । झारखंड विधानसभा का विस्तारित मानसून सत्र शुक्रवार को होगा। इस सत्र में सरकार सदन में खतियान आधारित स्थानीय नीति और ओबीसी आरक्षण को 14 प्रतिशत से बढ़ाकर 27 प्रतिशत करने वाला विधेयक लाने जा रही है। विस्तारित सत्र को लेकर तैयारी पूरी कर ली गयी है।

संसदीय कार्यमंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि शुक्रवार को आहूत विस्तारित सत्र में 1932 के खतियान के आधार पर स्थानीयता और ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण से जुड़ा बिल सदन में पारित होगा। उस पारित बिल को केंद्र सरकार को भेजा जायेगा। उन्होंने कहा कि दोनों बिल में सारी बातों का जिक्र होगा। उन्होंने विपक्ष से आग्रह किया कि राज्य हित में दोनों बिल को पास कराने में समर्थन करें।

उल्लेखनीय है कि मंगलवार देर रात ईडी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को मनी लाउंड्रिंग और अवैध खनन केस में पूछताछ के लिए समन जारी किया था। बुधवार को ये खबर आयी कि सरकार ने 11 नवंबर को विस्तारित सत्र बुलाया है। मुख्यमंत्री सचिवालय द्वारा जारी पत्र में कहा गया था कि इसमें स्थानीयता तथा आरक्षण विधेयक पेश होगा। सदन में संख्याबल के आधार पर हो सकता है कि हेमंत सरकार दोनों विधेयकों को पास भी करा ले।

राज्य में चल रहे राजनीतिक गहमागहमी के बीच शुक्रवार को होनेवाले सत्र में हंगामे के पूरे आसार हैं। जाहिर है कि मुख्य विपक्षी पार्टी हथियार के रूप में मुख्यमंत्री को ईडी के समन और कांग्रेसी विधायकों के ठिकानों पर आईटी की छापेमारी का सहारा लेगी। भाजपा इन्हीं दो मुख्य मुद्दों पर हेमंत सरकार को घेरने का प्रयास करेगी। वहीं सत्तापक्ष की तरफ से केंद्रीय एजेंसियों की कार्रवाई को लेकर विपक्ष पर हमला बोलेगी। कुल मिला कर, विधानसभा का ये एक दिवसीय सत्र काफी हंगामेदार होने वाला है।

बताया जा रहा है कि सत्ता पक्ष के भी कुछ विधायक खतियान आधारित स्थानीय नीति पर अपनी ही सरकार पर लाल हो सकते हैं। कांग्रेस विधायक और विधानसभा में पार्टी की सचेतक पूर्णिमा नीरज सिंह ने शुरू से ही खतियान आधारित स्थानीय नीति का विरोध किया था। उनका यह विरोध कल सदन में भी देखने को मिल सकता है। इसी तरह कांग्रेस के ही विधायक उमाशंकर अकेला ने भी खतियान आधारित स्थानीय नीति का विरोध किया था। देखना दिलचस्प होगा कि शुक्रवार को सदन में इनका रुख क्या रहता है।

इस बीच कैश कांड में फंसे कांग्रेस के तीनों विधायकों इरफ़ान अंसारी, राजेश कश्यप और नमन विक्सल कोंगाड़ी को बेल मिल गया है। शुक्रवार को आहूत सत्र में तीनों शामिल होने जा रहे हैं। मालूम हो कि इन तीनों ही विधायकों को कांग्रेस पार्टी ने निलंबित कर दिया था। ऐसे में सदन में इनका रुख क्या होता है यह भी देखना दिलचस्प होगा।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *