Jharkhand : झारखंड : बिजली उपभोक्ताओं के लिए नया टैरिफ घोषित, बिजली दरों में कोई वृद्धि नहीं

जेबीवीएनएल ने 20 प्रतिशत तक बढ़ोतरी का दिया था प्रस्ताव

वर्तमान में जारी सब्सिडी या अन्य सुविधाओं पर सरकार लेगी निर्णय

रांची : झारखंड राज्य विद्युत नियामक आयोग ने कोविड-19 और लॉकडाउन के चलते उपभोक्ताओं को बड़ी राहत दी है। आयोग ने मौजूदा बिजली दर में किसी भी प्रकार की कोई बढ़ोतरी नहीं की है। साथ ही कई प्रकार की छूट और सुविधा भी दी है। आयोग ने कॉमर्शियल एवं इंडस्ट्रीयल उपभोक्ताओं को फिक्स चार्ज में मामूली बढ़ोतरी करके उनका बिजली दर कम कर दिया है। उपभोक्ताओं को वर्तमान में दी जाने वाली सब्सिडी या कोई दूसरी सुविधा पर निर्णय सरकार लेगी। यह टैरिफ कॉस्ट आॅफ सप्लाई के आधार पर तय की गयी है। यह घोषणा आयोग के सदस्य आरएन सिंह एवं पीके सिंह ने की। 2017 के बाद यह दूसरा अवसर है जब आयोग के अध्यक्ष का पद रिक्त होने के बावजूद टैरिफ घोषित की गयी है।
उपभोक्ताओं को मिली यह राहत एवं सुविधा

उपभोक्ताओं से मीटर रेंट की वसूली बंद हुई।

डीपीएस (डिले पेमेंट सरचार्ज) की दर में महीना 1.5 प्रतिशत से घटाकर 1 प्रतिशत कर दी है।

आॅनलाइन भुगतान पर 1 प्रतिशत और ड्यू डेट के अंदर भुगतान पर 1 प्रतिशत छूट के साथ कुल 2 प्रतिशत की छूट दी जाएगी।

बिजली दर के फिक्स चार्ज की वसूली को आपूर्ति घंटे से जोड़ा जाएगा। एचटी उपभोक्ताओं के लिए 23 घंटा एवं एलटी उपभोक्ताओं के लिए यह 21 घंटे तक होगा। यानि कि हाई-टेंशन उपभोक्ताओं को कम से कम 23 घंटा एवं आम उपभोक्ताओं को कम से कम 21 घंटे बिजली देना होगा, नहीं तो फिक्स चार्ज वसूली में निगम को लॉस सहना होगा।

1 जनवरी तक राज्य के सभी उपभोक्ताओं को मीटर कर देना अनिवार्य होगा।

मीटर रीडिंग सिस्टम होने के कारण बिजली इंस्पेक्टर अब उपभोक्ताओं के घर जाकर लोड का निरीक्षण नहीं कर पाएंगे।

बिजली वितरण कंपनी या उसके लाइसेंसी बिलिंग एजेंसी अगर दो माह तक उपभोक्ताओं को बिजली बिल नहीं देते हैं तो तीसरे माह से प्रति माह बिल में 1 प्रतिशत एवं अधिकतम तीन माह तक 3 प्रतिशत की छूट उपभोक्ताओं को मिलेगी।

प्री-पेड मीटर वितरण कंपनी को प्रोवाइड करना होगा, अगर ऐसा नहीं होता है और कोई उपभोक्ता खुद इस मीटर का इस्तेमाल करते हैं तो उन्हें 3 प्रतिशत की विशेष छूट एवं सिक्यूरिटी की वापसी करनी होगी।

नयी दर

कैटेगरी एनर्जी चार्ज फिक्स चार्ज
डोमेस्टिक रूलर एंड अंडर रूलर 5 केवी तक 5.75 20
डोमेस्टिक अरबन एवं अंडर अरबन 5 केवी तक 6.25 75
डोमेस्टिक एचटी 6 100
कॉमर्शियल रूलर 5 केवी तक 5.75 50
कॉमर्शियल अरबन 5 केवी तक 6 150
एरिगेशन एंड एग्रीकल्चर 5 20
एलटी इंडस्ट्रीयल सप्लाई 5.75 100
स्ट्रीट लाइट सर्विस 6.25 100
एचटी सप्लाई 5.50 350
एचटी इंडस्ट्रीयल सप्लाई 5.25 350

नोट : कॉमर्शियल रूलर का बिजली दर 6 रुपए से घटाकर 5.75 रुपए किया गया है जबकि फिक्स चार्ज 40 रुपए से बढ़ाकर 50 रुपए किया गया है। कॉमर्शियल अर्बन का बिजली दर 6.25 से घटाकर 6 रुपए जबकि फिक्स चार्ज 150 से घटाकर 100 रुपए कर दिया है। एचटी इंडस्ट्रीयल सप्लाई का बिजली दर 5.50 घटाकर 5.25 रुपए कर दिया गया है जबकि फिक्स चार्ज में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

पुरानी दर

कैटेगरी एनर्जी चार्ज फिक्स चार्ज

डोमेस्टिक रूलर एंड अंडर रूलर 5 केवी तक 5.75 रुपए 20 रुपए
डोमेस्टिक अरबन एवं अंडर अरबन 5 केवी तक 6.25 रुपए 75 रुपए
डोमेस्टिक एचटी 6 रुपए 100 रुपए
कॉमर्शियल रूलर 5 केवी तक 6 रुपए 40 रुपए
कॉमर्शियल अरबन 5 केवी तक 6.25 रुपए 150 रुपए
एरिगेशन एंड एग्रीकल्चर 5 रुपए 20 रुपए
एलटी इंडस्ट्रीयल सप्लाई 5.75 रुपए 100 रुपए
स्ट्रीट लाइट सर्विस 6.25 रुपए 100 रुपए
एचटी सप्लाई 5.50 रुपए 350 रुपए
एचटी इंडस्ट्रीयल सप्लाई 5.50 रुपए 350 रुपए

अब सब्सिडी पर आगे क्या

अभी सरकार वतर्मान बिजली दर पर ग्रामीण एवं आम शहरी उपभोक्ताओं सब्सिडी दे रही है। अब नया टैरिफ लागू होने के बाद सब्सिडी जारी रहेगी या कोई नया सिस्टम लागू होगी, यह सरकार नए सिरे से तय करेगी। बता दें कि हेमंत सरकार ने उपभोक्ताओं को 100 यूनिट बिजली फ्री करने का वादा किया है।

वर्तमान बिजली टैरिफ एवं सब्सिडी दर

कैटेगरी वर्तमान दर मिल रही सब्सिडी प्रस्तावित दर (प्रति यूनिट)
घरेलू ग्रामीण 5.75 रुपए 4.25रुपए 7.00रुपए
घरेलू शहरी 6.25 रुपए 2.75 रुपए 7.50 रुपए
इस तरह मिल रहा है उपभोक्ताओं को सब्सिडी
0-200 यूनिट पर सब्सिडी 2.75 रुपए
201-500 यूनिट पर सब्सिडी 2.05 रुपए
501-800 यूनिट पर सब्सिडी 1.85 रुपए
800 प्लस पर सब्सिडी 1.00 रुपए

इनसाइटऑनलाईनन्यूज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *