Jharkhand : विधायक ने केंद्रीय कृषि मंत्री से किसानों के लिए की राहत पैकेज की मांग

Insight Onlien News

रांची, 22 मई : मांडर विधायक बंधु तिर्की ने शनिवार को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर को पत्र लिखकर झारखण्ड के किसानों के लिए राहत पैकेज की मांग की है। तिर्की ने अपने पत्र में कहा है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 से देश के साथ हमारा झारखण्ड भी जूझ रहा है।

कोरोना में सबसे अधिक चौतरफा नुकसान प्रदेश के उन लाखों किसानों को उठाना पड़ रहा है, जो एक तरफ सरकार के द्वारा धान अधिप्राप्ति केंद्रों में अपने उत्पादित धान बेचने के बाद भी उन्हें अभी तक पूरी राशि का भुगतान नहीं मिल पाया है।

धान अधिप्राप्ति केंद्रों के संचालकों के गड़बड़झाला एवं अनियमितता के कारण किसान अपना पूरा धान सरकारी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेच नहीं पाये हैं। वहीं दूसरी ओर लॉकडाउन के दौरान प्रदेश के लाखों किसान के समक्ष उनके द्वारा उत्पादित सब्जी फसल की लागत खर्च नहीं मिल पाने के कारण खून के आंसू रोने को मजबूर हैं। बीज बोने से लेकर तैयार सब्जी तक बाजार पहुंचाने की कीमत भी उन्हें नहीं मिल रहा है।

कोरोना को लेकर झारखण्ड सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक प्रातः सब्जी तोड़ने से लेकर दो बजे तक ही सब्जी बाजार में बेचने की समय सीमा की बाध्यता के कारण किसान अपने उत्पादित सब्जी को व्यापारियों के हाथों औने-पौने दाम बेचने को मजबूर हैं। व्यापारियों के द्वारा थोक मंडी में कद्दू, बैंगन, मूली, टमाटर, खीरा, हरी, मिर्च आदि सब्जियों की कीमत औसतन दो-तीन रुपये प्रति किलो की दर से खरीद किया जा रहा है।

क्योंकि दो बजे के बाद बाजार भी बंद हो जाता है। इसलिए किसान जैसे तैसे अपना सब्जी बेच कर भारी मन से घर की ओर लौट जाते हैं। कुछ किसान तो अपना सब्जी बेच भी नहीं पाते और सड़क किनारे फेंक कर चले जाते हैं। इनमें से अधिकतर किसान कृषि ऋण लेकर खेती किए हैं। बहुत सारे किसानों ने तो महिला समूह से निजी तौर पर ऋण लेकर खेती किये है। भारी पूंजी लगाकर किसान खेती तो कर रहे हैं लेकिन उन्हें उचित मूल्य भी नहीं मिल पा रहा है।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES