Jharkhand News Update : बिहार सरकार में मंत्री व चार बार विधायक रहे बंदी उरांव का निधन

Insight Online News

रांची। भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी के तौर पर अपनी अमिट छाप छोड़कर और वीआरएस लेकर राजनीति में करियर बनानेवाले चार बार के विधायक बंदी उरांव का निधन सोमवार की देर रात हो गया। बंदी उरांव अपने पीछे पुत्र अरुण उरांव, पुत्रवधू गीताश्री उरांव और भरापूरा परिवार छोड़ गए हैं। उनके पुत्र अरुण उरांव भी आइपीएस की नौकरी से वीआरएस लेकर भाजपा में शामिल हुए हैं और पार्टी में बड़े पद पर आसीन हैं। बंदी उरांव बिहार सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। उनके निधन पर कांग्रेस और भाजपा के नेताओं ने शोक व्यक्त किया है। वे लगभग 90 वर्ष के थे।

  • मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने बंदी उरांव के निधन पर किया दुःख व्यक्त

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने बिहार सरकार के पूर्व मंत्री और छोटानागपुर संतालपरगना कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष बंदी उरांव के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने ईश्वर से दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करने तथा शोक संतप्त परिजनों को दुःख की इस को घड़ी सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना की है।

  • अर्जुन मुंडा ने पूर्व विधायक बंदी उरांव के निधन पर दुख व्यक्त किया

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने पूर्व आईपीएस अधिकारी, बिहार सरकार में मंत्री रहे और भाजपा नेता डॉ अरुण उरांव के पिता बंदी उरांव के निधन पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने मंगलवार को कहा कि बंदी उरांव के निधन का दुःखद समाचार मिला। उनका आदिवासियों के उत्थान में बड़ा योगदान रहा। भगवान उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दें। उनके परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदना।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेसी नेता सह सिसई के पूर्व विधायक बंदी उरांव (90 वर्ष) ने सोमवार की देर रात अंतिम सांस ली। जानकारी के अनुसार 1980 में गिरिडीह के एसपी के पद पर रहते हुए उन्होंने नौकरी से त्यागपत्र देकर कार्तिक उरांव के प्रेरणा से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की थी। उनके पुत्र अरुण उरांव भी पुलिस अधिकारी रह चुके हैं, जो अभी भाजपा में हैं। इनकी पुत्रवधु गीताश्री उरांव भी कांग्रेस की टिकट पर विधायक रह चुकी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *