Jharkhand News Update : आपदा में अवसर ढूंढकर पैसे कमा रही है केंद्र सरकार , बन्ना गुप्ता

Insight Online News

रांची, 29 अप्रैल : ।झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि केंद्र सरकार आपदा में अवसर ढूंढ कर पैसे कमा रही है। गुरुवार को एनएचएम में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा।

गुप्ता ने इस दौरान झारखंड की जनता के साथ केंद्र पर भेदभाव करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि एक देश एक विधान और एक संविधान का नारा देने वाली भाजपा सरकार ने पैसों के लिए जीवन रक्षक वैक्सीन को तीन कैटेगरी में बांट दिया है। चुनावी भाषणों में फ्री वैक्सीन का दावा करने का वायदा भी जुमला साबित हुआ। कोविड-19 का यह दूसरा चक्र पहले चक्र के मुकाबले बेहद घातक है। इस चक्र के रोकथाम और इलाज का अभी एकमात्र विकल्प वैक्सीनेशन ही है। मोदी ने एक मई से 18 साल से 44 साल के लोगों को वैक्सीन लगाने की घोषणा तो कर दी है लेकिन वैक्सीन के वितरण में राजनीति कर रहे हैं।

गुप्ता ने कहा कि 2020-21 के बजट में केंद्रीय वित्त मंत्री सीतारमण ने देश में वैक्सीन के लिए 35000 करोड़ की राशि का प्रावधान किया है तो क्या कारण हैं कि अब 18 साल से ऊपर के लोगों के वैक्सीन देने के लिए राज्य सरकार से रुपये मांग रही हैं। आज वैक्सीनेशन के नाम पर तीन तरह से टैरिफ राज्य सरकार के माथे पर थोपा जा रहा है।

उन्होंने आरोप लगाया है कि कोविड महामारी के समय केंद्र सरकार राज्यों के साथ राजनीतिक छल और प्रपंच रच रही है। राज्य सरकार के साथ केंद्र सरकार की नाइंसाफी है। राज्य सरकार 18 साल से ऊपर और 44 साल तक के लोगों को फ्री में टीकाकरण करने की तैयारी कर चुकी हैं। 2229 से ज्यादा टीकाकरण केंद्र तैयार हैं। राज्य सरकार ने 25 लाख भारत बायोटेक से और 25 लाख सीरम इंस्टीट्यूट से वैक्सीन ऑर्डर कर दिया है लेकिन दोनों कम्पनियों ने बताया है कि केंद्र सरकार भारत बायोटेक से 10 करोड़ और सीरम इंस्टीट्यूट से दो करोड़ का एडवांस बुकिंग कर रखा हैं, जिस कारण झारखंड को 15 मई के बाद ही वैक्सीन उपलब्ध हो सकता हैं। ऐसी परिस्थिति में हम अपने एक करोड़ 57 लाख लोगों का टीकाकरण कैसे करवा पाएंगे।

बन्ना गुप्ता ने कहा कि दुनिया का हीरो बनने के चक्कर में मोदी ने दूसरे देशों को वैक्सीन भेज है लेकिन अपने देश में वैक्सीन की पूर्ती नहीं कर पा रहे है। बन्ना गुप्ता ने कहा कि चुनावी भाषणों में पाकिस्तान को गाली देने वाले मोदी ने पाकिस्तान को 45 लाख डोज दिया। भूटान को 25 लाख डोज दिया, लेकिन इस पिछड़े और गरीब राज्य को वैक्सीन, रेमडेसिविर और दवाई देने के लिए केंद्र सरकार के पास नहीं है।

परिस्थिति ऐसी है कि आज हमारे पास सिर्फ 2500 रेमेडिसिविर इंजेक्शन हैं। वहीं, दो हजार रेमडेसिविर असम से उधार लिया है। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन हमें चार हजार रेमेडिसिविर की आवश्यकता है, जबकि पिछले 10 दिनों में महज 20 हजार रेमडेसिविर झारखंड को अलाउड हुआ है, जो झारखंड के साथ नाइंसाफी हैं।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *