Jharkhand news : प्रधानमंत्री ने कोरोना के नाम पर जो किया वह असंगठित क्षेत्र पर तीसरा आक्रमण था : रामेश्वर

रांची, 09 सितम्बर । अखिल भारतीय कांग्रेस की सोशल मीडिया साइट पर पूर्व पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश की अर्थव्यवस्था को लेकर वीडियो श्रृंखला कड़ी में बुधवार को चौथी वीडियो राष्ट्र के नाम जारी किया। राहुल गांधी ने स्पीक ऑन इकोनॉमी के तहत प्रधानमंत्री द्वारा नोटबंदी, गलत जीएसटी एवं लोक डाउन के मद्देनजर लगातार गिरती अर्थव्यवस्था एवं असंगठित कामगारों पर हो रहे हमले को लेकर बेबाक देश की जनता के सामने आज फिर अपनी राय रखी है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सह खाद्य आपूर्ति व वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने लॉकडाउन की परिस्थितियों को लेकर आर्थिक संकट पर जारी वीडियो की चौथी कड़ी को झारखंड की जनता के लिए अपने सोशल मीडिया साइट फेसबुक ,ट्विटर, इंस्टाग्राम ,व्हाट्सएप पर जारी करते हुए बुधवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि प्रधानमंत्री ने कोरोना के नाम पर जो किया वह असंगठित क्षेत्र पर तीसरा आक्रमण था, तीसरा बड़ा हमला था, गरीब लोग व लघु मध्यम व्यापार करने वाले लोग रोज कमाते हैं और रोज खाते हैं।

जब प्रधानमंत्री ने बिना कोई नोटिस दिए लॉकडाउन किया आपने इनके ऊपर आक्रमण किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि 21 दिन की लड़ाई होगी लेकिन असंगठित क्षेत्र की रीढ़ की हड्डी 21 दिन में ही टूट गई। लॉकडाउन के बाद खोलने का समय आया और आप देखिये कांग्रेस पार्टी ने एक नहीं अनेक बार सरकार से कहा गरीबों की मदद करनी ही पड़ेगी, न्याय योजना जैसी एक योजना लागू करनी पड़ेगी ,एमएसएमई के लिए कांग्रेस ने एक लाख करोड़ के पैकेज की मांग की।

साथ ही पांच सूत्री उपाय के सुझाव भी दिए जिसे नजर अंदाज कर दिया गया। हमने स्पष्ट कहा कि न्याय योजना जैसी एक योजना लागू करनी पड़ेगी, बैंक अकाउंट में सीधा पैसा डालना पड़ेगा, लेकिन नहीं किया। हमने कहा एमएसएमई व गरीबों के लिए आप एक पैकेज तैयार कीजिए उनको बचाने की जरूरत है, बिना खाते में नगद पैसा डाले ये नहीं बचेंगे सरकार ने कुछ नहीं किया ,उल्टे केन्द्र की सरकार ने सबसे अमीर 15- 20 बड़े लोगों का लाखों करोड़ों रुपए टैक्स माफ कर दिया। बड़े उद्योगपतियों को लगभग 1.45 लाख करोड़ रुपए की टैक्स में छूट दी गई। उराँव ने कहा कि लॉकडाउन करोना पर आक्रमण नहीं था, लॉकडाउन हिंदुस्तान के गरीबों पर आक्रमण था।

हमारे युवाओं के भविष्य पर आक्रमण था, लॉकडाउन मजदूर-किसान और छोटे व्यापारियों पर आक्रमण था, हमारी असंगठित अर्थव्यवस्था पर आक्रमण था ,हमें इस बात को समझना होगा। इस आक्रमण के खिलाफ हम सबको मिलकर खड़ा होना होगा। कांग्रेस विधायक दल नेता सह ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि मोदी सरकार के गलत फैसलों की वजह से हजारों प्रवासी मजदूरों को अपने जीवन से हाथ धोना पड़ा। सात लाख से ज्यादा छोटी दुकानें लॉकडाउन के कारण बंदी के कगार पर खड़ी है।

हर तीन में से एक एमएसएमई बंद हो रहे हैं ,यहां तक कि लॉकडाउन के दौरान 2.7 करोड़ युवा बेरोजगार हो गए हैं। गरीबों और छोटे दुकानदारों एमएसएमई को बचाने के लिए कांग्रेस के सुझाव न्याय योजना जैसी एक योजना लागू करके गरीबों को बचाने की कोशिश को नजरअंदाज करके अर्थव्यवस्था को चौपट करने का काम किया जिसे देश की जनता बखूबी समझ रही है।

प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ,लाल किशोर नाथ शाहदेव और राजेश गुप्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अचानक किया गया लॉकडाउन असंगठित वर्ग के लिए मृत्युदंड जैसा साबित हुआ। वादा था 21 दिनों में कोरोना संक्रमण खत्म करने का लेकिन खत्म किए गए करोड़ों रोजगार, छोटे-मध्यम उद्योग और प्रतिदिन फुटपाथ पर गुजर बसर करने वाले। मोदी के जनविरोधी डिजास्टर प्लान ने पूरे देश को परेशान करके खड़ा कर दिया है। गिरती अर्थव्यवस्था में भारत के युवाओं के भविष्य पर ग्रहण लगा दिया है।

नौकरियां जा रही हैं और भविष्य में नौकरिया मिलने की दूर-दूर तक कोई संभावना नहीं है। युवा वर्ग को अब केंद्र सरकार की इस गलत निर्णय के खिलाफ खड़ा होने की आवश्यकता है। नेतृत्व वाली केंद्र की सरकार के अपने कार्यकाल में 12 करोड़ रोजगार गायब हो गए ,पांच ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था गायब हो गई है। केंद्र सरकार की विकास की ताजा रिपोर्ट आईएलओ के मुताबिक 40 करोड़ भारतीय गरीबी रेखा के नीचे गुजर बसर करने को मजबूर हैं। प्रवक्ताओं ने कहा कि स्वास्थ्य को लेकर केंद्र सरकार की आई हुई टीम से संगठन का एक प्रतिनिधिमंडल मुलाकात करेगा एवं व्यापक सहयोग की मांग करेगा।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी सोशल मीडिया के कोऑर्डिनेटर गजेंद्र प्रसाद सिंह के सहयोग से प्रदेश कांग्रेस कमेटी के विधायक ने ,जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष, और प्रमुख पदाधिकारियों में अमूल्य नीरज खलखो, शकील अख्तर अंसारी, रामा खलखो, निरंजन पासवान सहित आम लोगों ने भी राहुल गांधी के अर्थव्यवस्था व जीएसटी पर उठाये गये सवाल के वीडियो को सोशल हैंडल से आम जनों के लिए पोस्ट किया है जिसे देश सहित झारखण्ड में भी ट्रेंड कर रहा है।

(हि. स.)

यह भी पढ़ें : Jharkhand news : जितिया पर्व को लेकर बाजारों में बढ़ी रौनक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *