Jharkhand : अवैध कार्यों पर अधिकारी लगाएं लगाम, नहीं तो होगी कठोर कार्रवाई : डीजीपी

रांची, 20 मई । डीजीपी नीरज सिन्हा ने डीआइजी, एसएसपी, एसपी के साथ समीक्षा बैठक की। इस दौरान डीजीपी ने कोयला, बालू, पत्थर और अन्य अवैध कार्यों पर लगाम लगाने का निर्देश अधिकारियों को दिया । डीजीपी झारखंड पुलिस मुख्यालय में शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक कर रहे थे।

डीजीपी ने पुलिस अधिकारियों को चेतावनी दी कि इस तरह के कार्यों की अगर कोई भी शिकायत मिलती है तो स्थानीय पुलिस पदाधिकारी को जिम्मेदार मानते हुए कठोर कार्रवाई की जाएगी।

डीजीपी ने समीक्षा बैठक के दौरान राज्य में सक्रिय अपराधियों की सूची तैयार करने और वैसे अपराधी जो जेल में है अथवा जेल से जमानत पर छूटकर बाहर आए हैं, और आपराधिक कृत्य में शामिल हैं, उनके जमानत को रद्द कराने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने और उन पर निगरानी रखे जाने का आदेश भी दिया।

डीजीपी ने सभी संबंधित अधिकारियों को अपने क्षेत्र में संगठित आपराधिक गिरोह के अपराधियों पर सीसीए लगाने का प्रोपोजल भी तैयार रखने के लिए निर्देश दिया और राज्य के सभी वरीय पदाधिकारी को निर्देश दिया गया कि वह स्वयं पेट्रोलिंग के लिए पदाधिकारियों को निर्देश दे।

डीजीपी ने समीक्षा बैठक के दौरान सभी जिलों में वारंटी और विभिन्न कांडों में फरार चल रहे अभियुक्तों के खिलाफ विशेष छापेमारी अभियान चलाकर उनकी गिरफ्तारी करने का निर्देश दिया। सीआईडी के द्वारा इस अभियान की समीक्षा की जाएगी। साइबर कांडों के अनुसंधान के लिए जिला स्तर पर विशेष टीम गठित कर लंबित अनुसंधान को पूर्ण करने का भी निर्देश डीजीपी ने दिया। जिन कांडों में राज्य से बाहर के अभियुक्त की गिरफ्तारी की आवश्यकता है। उसके लिए जिला स्तर पर टीम भेजकर गिरफ्तारी करने का निर्देश दिया गया। साइबर कांडों के अनुसंधान के लिए जिला स्तर पर विशेष टीम गठित कर लंबित अनुसंधान को पूर्ण करने का निर्देश दिया गया।

बैठक के दौरान एडीजी प्रशांत सिंह, एडीजी संजय आनंद राव लाटकर, आईजी अमोल बेनूकांत होमकर, डीआईजी अनूप बिरथरे, सुनील भास्कर, अनीश गुप्ता, एस कार्तिक सहित कई अधिकारी शामिल थे।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.