Jharkhand : झारखंड में खतियान आधारित स्थानीयता से जनता खुश: मुख्यमंत्री

बरहेट/रांची, 20 सितम्बर (हि.स.)। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि झारखंड में खतियान आधारित स्थानीयता से जनता खुश है। सरकार सीएनटी, एसपीटी, 1932 खतियान जैसे कानूनों से यहां के आदिवासियों -मूलवासियों को सुरक्षा कवच प्रदान कर रही है। सोरेन मंगलवार को एसएसडी उच्च विद्यालय बरहेट में आयोजित जनता दरबार-सह-योजनाओं का शिलान्यास, उद्घाटन एवं परिसंपत्ति वितरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि बरहेट प्रखंड के इस मिलन समारोह एवं जनता दरबार का उद्देश्य सरकार की योजनाओं का लाभ लोगों तक पहुंच रहा है या नहीं, इसकी जानकारी लेना है। उन्होंने कहा कि सभी पदाधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ जनता तक यथाशीघ्र पहुंचाने का काम करें। वे राज्य के किसी भी क्षेत्र में कभी भी जाकर इसका निरीक्षण कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने विभिन्न विभागों के तहत युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए बिना किसी गारंटर के 50 हजार रुपये के लोन को बढ़ाकर एक लाख रुपये किया है। पुरानी पेंशन योजना लागू कर कर्मचारियों के बुढ़ापे की लाठी बनने का काम किया है। सर्वजन पेंशन योजना से राज्य के बुजुर्गों और असहायों का सहारा बनने का भी काम किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष फिर से झारखंड प्रदेश के जनमानस को सुखाड़ जैसी समस्या से जूझना पड़ रहा है। राज्य के लिए यह बहुत चिंता का विषय है। इस भयावह स्थिति से निपटने के लिए राज्य के सभी विभागों के पदाधिकारियों के साथ चर्चा की गयी है। कृषक चिंता नहीं करें। उनके हर सुख-दुख का हिस्सा बनकर सरकार साथ खड़ी है।

कई योजनाओं का शिलान्यास एवं उद्घाटन

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने 16710.52 लाख रुपये की विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास एवं उद्घाटन किया। इसमें 15618.40 लाख रुपये की 155 योजनाओं का शिलान्यास एवं 1092.12 लाख रुपये की 58 योजनाओं का उद्घाटन हुआ। मुख्यमंत्री ने विभिन्न योजनाओं के तहत 293 लाभुकों के बीच परिसंपत्ति का भी वितरण किया। उन्होंने छोटे बच्चों को खीर खिलाकर उनका अन्नप्राशन कराया।

कार्यक्रम में राजमहल सांसद विजय हांसदा, साहिबगंज जिला परिषद अध्यक्ष मोनिका किस्कु, डीआईजी संथाल परगना सुदर्शन मंडल, उपायुक्त साहिबगंज रामनिवास यादव सहित बड़ी संख्या में योजनाओं के लाभुक एवं ग्रामीण उपस्थित थे।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *