Jharkhand : जागरुकता और इलाज से टीबी रोग पर लगाया जा सकता है लगाम : राज्यपाल

रांची, 23 सितम्बर। राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि जागरुकता और रोगियों के दवा लेने से टीबी पर लगाम लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने टीबी को खत्म करने के लिए 2025 तक का संकल्प लिया है। राष्ट्रपति ने टीबी मुक्त भारत अभियान की शुरुआत नौ सितम्बर को शुरू की थी।

राज्यपाल शुक्रवार को ऑड्रे हाउस में आयोजित टीबी मुक्त भारत अभियान के शुभारंभ के दौरान बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि टीबी के मरीजों के पोषण के लिए सरकार द्वारा 500 रुपये प्रतिमाह दिया जाता है। मरीजों के बेहतर पोषण के लिए सरकार ने लोगों से अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने की अपील की। उन्होंने कहा कि यह जानकारी मिली है कि रिम्स के निदेशक छुट्टी पर हैं। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री से कहा कि रिम्स राज्य का एकमात्र बड़ा अस्पताल है, जिससे सवा तीन करोड़ लोगों को इलाज की उम्मीद रहती है। इसकी व्यवस्था सुधारने की जरूरत है।

इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि टीबी मुक्त भारत अभियान को लेकर राज्यपाल के नेतृत्व में राज्य आगे बढ़ रहा है। मजबूत संकल्प के साथ भारत सरकार के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हम आगे बढ़ रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर टीबी के उन्मूलन के लिए 2030 का लक्ष्य रखा गया है लेकिन भारत और झारखंड ने 2025 तक इस बीमारी का उन्मूलन करने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडविया ने राज्य को हर संभव मदद की है। इसका परिणाम है कि हम कई बीमारियों के उन्मूलन की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। आज देश से पोलियो खत्म हो चुका है।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रांची के सांसद संजय सेठ ने कहा कि यह एक बड़ा अभियान है। 2025 तक टीबी को खत्म करने का लक्ष्य रखा गया है। पीएम नरेन्द्र मोदी का संकल्प है कि हम इस रोग को 2025 तक खत्म कर देंगे। उन्होंने कहा कि देश में 13 लाख 50 हजार टीबी के मरीज हैं। 7000 के करीब ऐसी संस्थाएं हैं, जो ऐसे मरीजों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए काम करते हैं। उन्होंने कहा कि कांके के पास एक गांव है, जहां 140 मरीजों को मैंने गोद लिया है। टीबी को खत्म करने के लिए हर एक व्यक्ति को पोषक बनकर आगे आना पड़ेगा।

कार्यक्रम को राज्यसभा सांसद महुआ माजी, स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने भी संबोधित किया।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.