Jharkhand Update : रघुवर दास का हेमंत सोरेन पर आरोप, पैसे का रोना रोने वाले चार्टर्ड प्लेन से जाते हैं दिल्ली

6 लाख रुपये महीना किराये वाले बंगले में ठहरते हैं

Insight Online News

रांची : पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास ने शुक्रवार को हेमंत सोरेन सरकार पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने आरोप लगाया है कि राज्य के विकास के लिए नहीं सत्ता में बैठे लोगों की सुख-सुविधा के लिए पैसे खर्च किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि खजाना खाली का बहाना बनाकर राज्य के विकास को रोक दिया गया है। भाजपा प्रदेश कार्यालाय में शुक्रवार को आयोजित प्रेस वार्ता में रघुवर दास ने कहा कि रांची से दिल्ली के लिए रोजाना 17 फ्लाइट होने के बावजूद सीएम चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली जाते हैं। दिल्ली में झारखंड भवन में सीएम के लिए कमरा होने के बाद भी वहां 6 लाख रुपये महीना किराया वाले आनंद निकेतन में ठहरते हैं। यह बंगला राज्य सरकार की तरफ से दिल्ली में एनआरआई इंवेस्टर सेल के नाम पर दिल्ली के आनंद निकेतन में लिया गया है।

वसूली करती है कांग्रेस पार्टी : दास ने पूर्व कांग्रेस सासंद फुरकान अंसारी की ओर से पार्टी के प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह पर लगाये आरोप पर कहा कि कांग्रेस पार्टी जबर्दस्त तरीके से वसूली करती है। उन्होंने कहा कि ऐसी चर्चा है कि आनेवाले दिनों में कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल चुनाव के लिये राज्य सरकार से पैसे की मांग की है। कांग्रेस को आनेवाले दिनों में पांच राज्यों में चुनाव लड़ना है, जिससे वह झारखंड का भी दोहन करेगी। उन्होंने कहा कि जब सरकार का नेतृत्व करने वाला अक्षम हो तो सारी परेशानियां शुरू हो जाती हैं।

चुनाव में किये वायदों से मुकर गयी सरकार : दास ने कहा कि चुनाव के दौरान संविदाकर्मियों, पारा शिक्षकों और पिछड़ों के आरक्षण पर बड़े वादों का सब्जबाग तो दिखाया गया, लेकिन सरकार बनते ही निर्णय लेने से बचने लगे। निर्णय नहीं लेना भी कमजोर सरकार की निशानी है। हर जगह पैसे के अभाव की बात की जाती है। कमजोर व्यवस्था में सब जगह हर काम में अभाव ही रहता है। कमजोर शासन में भू-माफिया, जंगल माफिया और खनन माफियाओं को संरक्षण दिया जाता है। जमीन, जंगल और खनिजों के अवैध कारोबारी बेखौफ होकर काम कर रहे हैं। दास ने कहा कि सवाल यह है कि इन 13 महीनों में विकास की गाड़ी ठिठक क्यों गयी? राज्य में अराजकता एवं अर्थव्यवस्था के कारण पैदा हुए हालात, एड़ी से चोटी तक व्यवस्था में फलता-फूलता भ्रष्टाचार और महिलाओं-बच्चियों के साथ दरिंदगी हो रही है।

इन सबके लिए मुख्यमंत्री नहीं तो कौन जिम्मेदार है? दास ने कहा कि राज्य में राजभवन की दीवारों पर दहशतगर्दी के पोस्टर चिपकाये गये। ऐसा पिछले 20 वर्षों में कभी नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि चाईबासा में सात लोगों की नृशंस हत्या कर दी गयी थी। उस पर मुख्यमंत्री कहते हैं कि जो मारे गये थे वे भी तो उनके ही थे, जिन्होंने मारा था, वे भी उन्हीं के थे। मामले में दिखावे के लिए कमिटी बना दी गयी। उन्होंने कहा कि जब मुख्यमंत्री के लोग मुख्यमंत्री के लोगों की हत्या करेंगे तो करवाई नहीं होगी। क्या मुख्यमंत्री बतायेंगे कि इस राज्य के कौन से नागरिक उनके हैं और कौन पराये?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *