Jharkhand : दुनिया पूरी तरह इंटरनेट पर निर्भर: राज्यपाल

रांची, 12 अगस्त । राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि आज दुनिया पूरी तरह इंटरनेट पर निर्भर है। साइबर क्राइम भी खूब तेजी से बढ़ रहा है और इसे कम करने के लिए साइबर सिक्योरिटी विशेषज्ञों की मांग निरंतर बढ़ रही है। ऐसे में रांची विश्वविद्यालय की ओर से इस दिशा में ध्यान दिया जाना एक सराहनीय प्रयास है। राज्यपाल शुक्रवार को रांची विश्वविद्यालय की ओर से साइबर सिक्योरिटी विषय पर पाठ्यक्रम के शुभारंभ के अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि यह पाठ्यक्रम एक ओर जहां रोजगार का बेहतर अवसर प्रदान करेगा। वहीं दूसरी ओर साइबर क्राइम जैसे वैश्विक चुनौती पर नियंत्रण करने के अलावा लोगों को इस संदर्भ में जागरूक करने में भी अहम योगदान देगा।

उन्होंने कहा कि साइबर सुरक्षा का पहला उद्देश्य मानव को इंटरनेट पर सुरक्षा प्रदान करना है क्योंकि इंटरनेट द्वारा जितना मानव जीवन को आसान बनाने की क्षमता है और यह फायदा पहुंचाता है, उतना ही यह नुकसान पहुंचा सकता है। ऑनलाइन धोखाधड़ी, ब्लैकमेलिंग, हैकिंग आदि समस्याएं आम हो गई हैं। उन्होंने कहा कि लोगों के खाते से पैसे कुछ ही क्षण में फोन कॉल से निकाले जा रहे हैं, केवाईसी अपडेट, एकाउंट ब्लॉक की बात कह कर लोगों से साइबर अपराधी एटीएम का पिन, ओटीपी मांगने की कोशिश करते हैं। लोग इन अपराधियों के झांसे में आ जाते हैं और उनके बैंक खाते से राशि निकाल ली जाती है।

उन्होंने कहा कि इनाम के नाम पर भी लोग साइबर ठगी का शिकार हो रहे हैं। साइबर अपराधी इनाम जीतने संबंधी लिंक भेजते हैं और लोग लालच में उस लिंक पर जाकर साइबर अपराधी के अनुसार काम करने लगते हैं। आज हम ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं, ई-पेमेंट करते हैं। इसके लिए सतर्कता बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि साइबर सुरक्षा पाठ्यक्रम में इन सब पर गहन शोध की जरूरत है। उच्च स्तरीय वैज्ञानिक शोध के माध्यम से साइबर क्राइम जैसे चुनौतियों का सामना किया जा सकता है। आजादी के अमृत महोत्सव पर साइबर क्राइम में संलिप्त लोगों की मानसिक क्षमता का मानव हित में सदुपयोग करने की कोशिश होना चाहिये। उन्होंने रांची विश्वविद्यालय को साइबर सुरक्षा पर पाठ्यक्रम शुरू करने के लिए बधाई भी दी।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.