Jharkhand : सौ वर्ष तक जीने के लिए योग आवश्यक : बाबा रामदेव

रांची, 10 नवंबर। योग गुरु बाबा रामदेव ने छात्र-छात्राओं और अभिभावकों योग के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि तत्कालीन परिस्थिति में कई तरह की बीमारियां फैल रही है। योग करने से कोई भी बीमारी नहीं होती। अतः सौ वर्ष का जीवन चाहिए तो योग आवश्यक है। रामदेव गुरुवार को रांची के आचार्यकुलम् विद्यालय परिसर में आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे।

उन्होंने बच्चों से कहा आप सभी विकल्प रहित संकल्प लें। अपना सर्वस्व न्योछावर कर दें। उच्च सोच, कड़ी मेहनत और पक्के इरादे से आप अपने लक्ष्य को पा सकते हैं। अखंड प्रचंड से ही अपने लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम भारतवासी भी अमेरिका से अधिक मजबूत बन सकते हैं। भारत आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक और शिक्षा के क्षेत्र में विश्व का नेतृत्व कर सकता है। उन्होंने अभिभावकों से अनुरोध किया कि आप सभी शाकाहारी बनें और धूम्रपान का त्याग करें ।

इस अवसर पर विद्यालय प्रांगण में प्रातः 4:30 बजे से भव्य योग शिविर का आयोजन किया गया। योग शिविर में भाग लेने के लिए विद्यालय के 1650 छात्र-छात्राएं और 3500 अभिभावक उपस्थित थे ।

मौके पर भारतीय शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष एनपी सिंह ने लोगों को भारतीय शिक्षा बोर्ड से अवगत कराते हुए कहा कि इसमें सभी विषयों की पढ़ाई होगी, जो अप्रमाणिक तत्व हैं उनका मूल्यांकन कर हटाया जाएगा।

1835 में लार्ड मैकाले ने भारतीय सांस्कृति पर षड्यंत रचा था। इसीलिए ऐसा सामर्थ बोर्ड होना चाहिए। जिसमें सांस्कृतिक बोध शिक्षा दी जाए। इससे बच्चों के मन में अपने देश के प्रति अपनी सांस्कृतिक यात्रा के प्रति गौरव का बोध हो। वर्तमान भारत सरकार में अमृत महोत्सव के दौरान मैकाले की शिक्षा पद्धति के समाधान के रूप में भारतीय शिक्षा बोर्ड स्वीकारा। अपने उच्च शिक्षा विभाग के माध्यम से एक्सप्रेशन आफ इंटरेस्ट एक ऐसी प्रक्रिया उस प्रक्रिया में समस्त शिक्षकों के आधार पर मूल्यांकन करने के बाद पतंजलि योगपीठ से स्पॉन्सरिंग बॉडी चयनित हुई। इसमें 18 सदस्य हैं जिसमें 7 सदस्य भारत सरकार के हैं। उन्होंने अभिभावकों को विशेष रूप से बताया कि इसमें 5 लोग एनसीआरटी के हैं। यूजीसी के यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन के चेयरमैन सम्मलित हैं। संस्कृत अनिवार्य है और संस्कृत के कुछ प्रमुख पुस्तकों और साहित्य का सामान्य हो सके।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *