Jharkhand : झारखंड के लोग अपने कर्म और कर्तव्य से पहचान बनाते हैं -हेमन्त सोरेन

रांची, 02 अक्टूबर ।  मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि टूर्नामेंट के आयोजन का प्रस्ताव जब रखा गया तो बड़ी दुविधा थी और राज्य समेत पूरा देश वैश्विक महामारी के दौर से गुजर रहा था। लेकिन हुनर को निखारने के लिए पूरी सतर्कता के साथ टूर्नामेंट संपन्न कराने का निर्णय लिया गया। मुख्यमंत्री सोरेन ने शुक्रवार को जेएससीए स्टेडियम में आयोजित कार्बन झारखण्ड टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल मैच के पुरस्कार वितरण समारोह में कहा कि पूरी टीम के सहयोग से आज टूर्नामेंट का समापन हुआ, जो सुखद है। राज्य के लोगों ने ऑनलाइन इस टूर्नामेंट को देखा। कई खिलाड़ियों को टूर्नामेंट के आयोजन से प्रेरणा भी मिली। संक्रमण के दौर में भी अंडर-17 फीफा वर्ल्ड कप 2021 की तैयारी भी महिला फुटबॉल खिलाड़ी अपने राज्य में कर रहीं हैं। उनकी तैयारी झारखंड में हो। यह सरकार ने तय किया था, ताकि संक्रमण के दौर में उन्हें किसी तरह की बाधा का सामना ना करना पड़े। सरकार धीरे-धीरे चीजों को सामान्य दिशा में ले जाने का प्रयास कर रही है। हमें सतर्कता और सावधानी के साथ रहते हुए इस संक्रमण के दौर से सुरक्षित निकलना है। देश के अन्य राज्यों के मुकाबले झारखण्ड आगे बढ़ रहा है।

चुनौती थी स्टेडियम के निर्माण में

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्टेडियम के निर्माण में बड़ी चुनौती थी। लेकिन संकट व चुनौती को दरकिनार कर झारखंड स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन ने मील का पत्थर गाढ़ा और विश्व में इस स्टेडियम की पहचान बनाई। इतिहास के पन्नों पर भी हम अगर गौर करें तो यहां की घटनाएं सुनहरे अक्षरों में लिखी हुईं हैं। हमें इस बात का गर्व है कि हम झारखंड के निवासी हैं, जो कर्म व कर्तव्य से अपनी पहचान बनाते हैं।

ये हुए पुरस्कृत

मुख्यमंत्री ने टूर्नामेंट के विनर बोकारो ब्लास्टर्स की टीम को ट्रॉफी और मेडल प्रदान किया। टूर्नामेंट में मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार आयुष भारद्वाज, बेस्ट बैट्समैन नजीम सिद्दीकी, बेस्ट बॉलर आशीष कुमार जूनियर, बेस्ट फील्डर साहिल राज एवं प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट आदित्य सिंह को प्रदान किया गया।

( हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *