Kaukab Kadar : नवाब वाजिद अली शाह अवध के अंतिम शासक के प्रपौत्र प्रिंस कौकब कद्र का इंतकाल

कोलकाता। अवध के आखिरी नवाब वाजिद अली शाह के प्रपौत्र प्रिंस कौकब कद्र का रविवार शाम कोलकाता में कोरोना से इंतकाल हो गया। पारिवारिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, 87 साल के प्रिंस कौकब कद्र एक हफ्ते पहले कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। वे अपने पीछे बीवी, दो बेटे और चार बेटियां छोड़ गए हैं।

उनकी बीवी लखनऊ के मशहूर खानदान-ए-इज्तेहाद से ताल्लुक रखती हैं। वे कोलकाता के मटियाब्रुज इलाके में स्थित सिबतैनाबाद इमामबाड़ा ट्रस्ट के वरिष्ठ ट्रस्टी रहे, जहां नवाब वाजिद अली शाह को दफनाया गया था। उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से वाजिद अली शाह के साहित्यिक और सांस्कृतिक योगदान पर उर्दू में डॉक्टरेट किया था।

बाद में उसी यूनिवर्सिटी से उर्दू के प्रोफेसर के तौर पर जुड़े और 1993 में रिटायर हुए थे। उनके बेटे इरफान अली मिर्जा ने बताया कि उनके वालिद बिलियर्ड्स एंड स्नूकर फेडरेशन ऑफ इंडिया, वेस्ट बंगाल बिलियर्ड्स एसोसिएशन और उत्तर प्रदेश बिलियर्ड्स एंड स्नूकर एसोसिएशन के संस्थापक सचिव थे। 1963-64 में कोलकाता के ग्रेट ईस्टर्न होटल में हुई पहली विश्व स्नूकर चैंपियनशिप के वे चीफ रेफरी भी रहे। उनकी बेटी मंजीलत फातिमा 1980 में अहमदाबाद में हुई जूनियर नेशनल स्नूकर चैंपियनशिप में हिस्सा लेकर नेशनल चैंपियनशिप खेलने वाली पहली महिला बनी थी।

प्रिंस कौकब कद्र नोबेल जयी अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन के सहपाठी थे। उन्होंने कोलकाता के सेंट जेवियर्स कॉलेज से अर्थशास्त्र में स्नातक किया था। वे उसी बैच के सदस्य थे ,जिसमें अमर्त्य सेन थे। उसके बाद उन्होंने पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान की पढ़ाई की। प्रिंस कौकब कद्र ने फिल्म शतरंज के खिलाड़ी के लिए महान फिल्मकार सत्यजित राय के अनुसंधान सलाहकार की भूमिका भी निभाई थी।

-Agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *