Kerala Election Update : भाजपा के लिए पंथनिरपेक्षता संवैधानिक मिशन है: नकवी

Insight Online News

पिरावम/एट्टुमानूर/वाईकम (केरल), 01 अप्रैल : भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने गुरुवार को कहा कि ‘कम्युनल बैग पर सेक्युलर टैग’, ‘मोदी बैशिंग ब्रिगेड’ का ‘नया पॉलिटिकल प्रयोग’ है।

केरल विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के उम्मीदवारों के पक्ष में पिरावम, एट्टुमानूर, वाईकम में विभिन्न जनसभाओं और रोड शो में श्री नकवी ने कहा कि भाजपा के लिए ‘पंथनिरपेक्षता संवैधानिक मिशन’ है जबकि ‘छद्म सेक्युलरिस्टों’ के लिए यह ‘वोट झड़पने का टशन’ है।

उन्होंने कहा कि ‘इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग और जमात-ए-इस्लामी के झंडे’,“ काँग्रेस और कम्युनिस्टों के एजेंडे’ की ‘सांप्रदायिक जुगलबंदी’ फिर एक बार बेनकाब हुई। असम में ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट, पश्चिम बंगाल में इंडियन सेक्युलर फ्रंट और केरल में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के साथ काँग्रेस ने नया ‘सेक्युलर सिंडिकेट’ बनाया है। कांग्रेस अपनी सांप्रदायिक सियासत पर झूठी धर्मनिरपेक्षता का तड़का लगा कर वोटों के शोषण करने में माहिर रही है।

श्री नकवी ने कहा कि मोदी सरकार की हर विकास योजना, ‘समावेशी सोच, सर्वस्पर्शी सशक्तीकरण के संकल्प’ से भरपूर रही है जिसका लाभ समाज के सभी हिस्सों को हुआ है। ‘सम्मान के साथ सशक्तीकरण’, ‘बिना तुष्टीकरण के सशक्तीकरण’ के संकल्प के साथ मोदी सरकार ने ‘‘रिफॉर्म, परफॉर्म, ट्रांसफॉर्म” की नीति के जरिए समाज के हर तबके को तरक्की का बराबर का हिस्सेदार-भागीदार बनाया है। मोदी सरकार ‘गांव, गरीब, किसान, नौजवान, झुग्गी-झोपड़ी के इंसान’ के हितों को समर्पित सरकार है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना काल को आपदा नहीं बनने दिया बल्कि “आत्मनिर्भर भारत” बनाने के एक अवसर में तब्दील कर दिया। कोरोना की चुनौतियों के दौरान 80 करोड़ लोगों को निशुल्क राशन, 41 करोड़ से अधिक जरूरतमंदों के बैंक खातों में 90 हजार करोड़ रुपए दिए गए, आठ करोड़ परिवारों को निशुल्क गैस सिलिंडर, 20 करोड़ महिलाओं के जन धन खाते में 1500 रूपए, कोरोना से लड़ने के लिए राज्यों को 17 हजार करोड़ रूपए, श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिये 60 लाख से अधिक प्रवासियों को उनके गृह राज्यों तक पहुंचाना, 20 लाख करोड़ का आत्मनिर्भर भारत पैकेज, 10 करोड़ से अधिक किसानों को किसान सम्मान निधि का लाभ आदि अभूतपूर्व कदम उठाये गए।

श्री नकवी ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने अल्पसंख्यकों सहित समाज के सभी जरूरतमंदों के आर्थिक-सामाजिक-शैक्षिक सशक्तीकरण के लिए मजबूती से काम किया है। जहाँ 2014 से पहले लगभग तीन करोड़ अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप्स दी गई थी, वहीं 2014 के बाद से चार करोड़ 50 लाख अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप्स दी गई हैं। जहाँ 2014 से पहले सिर्फ 20 हजार अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों रोजगारपरक कौशल विकास मुहैया कराया गया, वहीं 2014 के बाद छह लाख 90 हजार लोगों को रोजगारपरक कौशल विकास का लाभ दिया गया है।

वर्ष 2014 से पहले छह लाख 94 हजार लोगों को स्वरोजगार के लिए आर्थिक मदद दी गई थी, जबकि 2014 के बाद आठ लाख 50 हजार अल्पसंख्यकों को स्वरोजगार के लिए आर्थिक मदद दी गई है। इसी तरह वर्ष 2014 के बाद से ‘प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम’ के तहत देश भर में पिछड़े इलाकों में विभिन्न विकास परियोजनाएं निर्मित की गई हैं। हज कोटा जो 2014 में एक लाख 36 हजार था वह 2019 में बढ़कर रिकॉर्ड दो लाख हो गया है।

उन्होंने कहा कि 28 हुनर हाट के माध्यम से पांच लाख 50 हजार से ज्यादा दस्तकारों, शिल्पकारों को रोजगार-रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये गए हैं। वर्ष 2014 के बाद से केरल के लगभग 48 लाख छात्र-छात्राओं को विभिन्न स्कॉलरशिप दी गई हैं जबकि 2014 से पहले केरल में केवल एक जिले में पांच अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्रों को प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत शामिल किया गया था, वहीं अब केरल के 13 जिलों में 73 ब्लॉक, टाउन पीएमजेवीके में शामिल हैं। 2014 के बाद से 5481 करोड़ रुपए की लागत से प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत विभिन्न विकास परियोजनाओं का निर्माण हुआ है जिनमें आईटीआई, हुनर हब, स्कूल बिल्डिंग, कॉमन सर्विस सेंटर, हॉस्पिटल बिल्डिंग, पेयजल सुविधा, वर्किंग वीमेन हॉस्टल, मार्केट शेड आदि शामिल हैं।

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *