कोविंद ने संविधान के आदर्शों को बरकरार रखा: मोदी

नयी दिल्ली, 26 जुलाई : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को लिखे पत्र में उनकी तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने भारत के राष्ट्रपति के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान सिद्धांतों, ईमानदारी, कामकाज, संवेदनशीलता और सेवा के उच्चतम मानकों को स्थापित किया।प्रधानमंत्री ने श्री कोविंद को रविवार को लिखे अपने पत्र में कहा, “आपने भारत के संविधान के आदर्शों तथा उसके लोकतंत्र के मर्म को सही फैसलों, उत्कृष्ट गरिमा और आसाधारण शालीनता के जरिए बरकरार रखा और हमेशा गणतंत्र के सर्वोत्तम हितों के लिए काम किया।”

श्री मोदी ने कहा, महामारी के अभूतपूर्व तनाव और अशांति और संघर्ष में फंसी दुनिया के समय में देश के प्रथम नागरिक के रूप में, शांति, एकता और आश्वासन के स्रोत थे, और विदेशों में भारत के मूल्यों और हितों के प्रेरक अधिवक्ता थे।उन्होंने कहा कि वह हमेशा सबसे कमजोर नागरिक के कल्याण के लिए अपनी दया और चिंता के प्रति अटल रहे।

उन्होंने कहा कि देश के सर्वोच्च पद पर पहुंचने पर भी आप दृढ़ता और गर्व के साथ जमीन से और लोगों के साथ जुड़े रहे, उनके साथ खुशी, उनकी समस्याओं के प्रति संवेदनशील, उनकी अपेक्षाओं के प्रति संवेदनशील, और आवश्यक परिवर्तन को लेकर पूरी तरह से जागरूक रहे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि श्री कोविंद ने राष्ट्रपति पद के दौरान अपने कई कार्यों, हस्तक्षेपों और भाषणों के जरिए भारत का प्रतिनिधित्व किया और हमारे देश तथा दुनिया के सभी कोनों में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने कहा कि श्री कोविंद का अपनी मां से मिलना और कई मुद्दों पर उनसे बात करने का भाव ‘विशेष’ था। उन्होंने कहा कि यह हमारी भूमि के अभिन्न मूल्य-प्रणाली के प्रति आपकी गहरी प्रतिबद्धता को दर्शाता है। श्री मोदी खुद अपनी मां हीराबाई के बहुत करीब हैं।

उन्होंने कहा, “जैसे-जैसे आपका कार्यकाल समाप्त हो रहा है, मैं पूरे देश के साथ आपको सलाम करता हूं और हमारे गणतंत्र के राष्ट्रपति के रूप में आपकी उत्कृष्ट सेवा और सार्वजनिक जीवन में एक लंबे और प्रतिष्ठित करियर के लिए अपनी गहरी कृतज्ञता व्यक्त करता हूं।”

श्री कोविंद ने प्रधानमंत्री के पत्र को ट्विटर पर आज साझा करते हुए लिखा, “मैं इन मार्मिक तथा दिल को छूने वाले शब्दों को उस प्यार और सम्मान के रूप में स्वीकार करता हूं, जो साथी नागरिकों ने मुझे दिया है। मैं वास्तव में आप सभी का आभारी हूं।

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published.