Lalu Yadav Court News Update : नया केस से उत्पन्न हो सकता है बड़ा संकट

Insight Online News

रांची। चारा घोटाले के चार मामलों के सजायाफ्ता राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव एक नए मामले में घिरते दिख रहे हैं। लालू के ऊपर मंडरा रहा यह नया खतरा चारा घोटाले के पांचवें मामले से जुड़ा है। रांची के डोरंडा कोषागार से 139 करोड़ रुपये की अवैध निकासी के मामले में बिहार के पूर्व मुख्यतमंत्री की मुश्किलें बढ़नी तय हैं।

लालू यादव को चारा घोटाले के पांचवें मामले में भी कैद- जुर्माने की सजा सुनाई जाने की अटकले। फिलहाल लालू चार मामलों में सजा काटने के लिए रांची के बिरसा मुंडा जेल भेजे गए हैं। जहां से तबीयत बिगड़ने के बाद रांची के रिम्स में उनका इलाज चल रहा है। कुछ दिन पहले ही लालू की हालत गंभीर होने के बाद उन्हें एम्सह, दिल्लीू बेहतर इलाज के लिए रेफर किया गया है। ताजा मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार लालू की सेहत में सुधार बताया गया है। वे अब पहले के मुकाबले सहज हैं। उनका निमोनिया भी कुछ हद तक ठीक हो गया है।

इधर राजद प्रमुख लालू प्रसाद से जुड़े चारा घोटाले के RC 47/96 डोरंडा कोषागार मामले में बीते दिन रांची की अदालत में एक बार फिर से 10 महीने बाद सुनवाई शुरू हो गई है। सीबीआइ की विशेष अदालत में यह मामला हफ्ते में दो दिन सुनवाई के लिए लाया जा रहा है, हाईकोर्ट के आदेश पर ।

139 करोड़ रुपये की अवैध निकासी से जुड़े इस मामले में सीबीआइ की ओर से तमाम गवाही पूरी हो गई है। अब लालू समेत दूसरे आरोपितों की ओर से गवाही कराई जा रही है। इस मामले में लालू मुख्य आरोपित के तौर पर अपनी गवाही दर्ज करा चुके हैं। अब दो-तीन गवाहों को ही अपना बयान दर्ज कराना बाकी रह गया है। सीबीआइ ने 575 तो बचाव पक्ष ने भी 100 से अधिक गवाहियां दर्ज कराई हैं। इस मामले में अभी मंगलवार और शुक्रवार को सुनवाई होगी।

संभावना व्यक्त की जा रही है कि यह मामला चूँकि अंतिम चंरण पर है इसलिए इस पर फैसला जल्द ही आएगा। फैसला अगर लालू प्रसाद यादव के विपरीत हुआ तो लालू प्रसाद यादव की मुश्किलों पर यह भरी पड़ेगा। इस केस का फैसला लालू प्रसाद यादव द्वारा फ़ाइल की गई बेल याचिका को प्रभावित भी कर सकता है।

इधर चारा घोटाले के चार मामलों में सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव को झारखंड हाई कोर्ट ने 3 मामलों में पहले ही जमानत दे दी है। जबकि एक मामले में उच्च् न्यामयालय में लालू की जमानत याचिका पर सुनवाई चल रही है। चाईबासा कोषागार के दो और देवघर कोषागार से जुड़े एक मामले में लालू को बेल मिल चुकी है। दुमका कोषागार मामले में आधी सजा काटने और गंभीर बीमारियों की दलील के सहारे उन्हों ने जमानत की आस लगा रखी है।

लालू की ओर से सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठो अधिवक्तात और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बकल झारखंड हाई कोर्ट में उनकी जमानत याचिका की पैरवी कर रहे हैं। इस मामले में 19 फरवरी को सुनवाई होगी। इस बीच लालू से जुड़े एक अन्यम मामले जेल मैनुअल उल्लंहघन में स्ववत: संज्ञान लेकर झारखंड हाई कोर्ट ने सुनवाई शुरू की है। बिहार के एक भाजपा नेता को फोन करने और नीतीश सरकार को अस्थिर करने के आरोपों से घिरे लालू को लेकर हाई कोर्ट ने कई दफा कड़ी टिप्पणियां कीं। कोर्ट ने सरकारी वकील को यहां तक कहा कि किसी व्य क्ति विशेष के लिए कानून कैसे बदला जा सकता है।

इधर लालू को लेकर हाई कोर्ट ने पिछली सुनवाई में बड़ी बात कही। अदालत ने कहा कि कोर्ट की बिना जानकारी में उन्हें एम्सत, दिल्लीड कैसे भेज दिया गया। सबसे पहले उनकी मेडिकल रिपोर्ट कोर्ट में पेश की जानी थी। उनको क्या बीमारी है, यह देखने के बाद ही मेडिकल बोर्ड के दिल्लीा भेजने के फैसले की परख की जा सकती है। रिम्सर डायरेक्टहर के कोर्ट में मेडिकल रिपोर्ट नहीं दाखिल करने पर अदालत ने शो-कॉज नोटिस भी जारी किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *