Last Journey of Gumla Bishop : गुमला के बिशप पौल अलोईस लकड़ा को दी गई भावविनी श्रद्धांजलि

Insight Online News

लगभग 18 सालों के पुरोहिताई जीवन एवं 15 सालों के धर्माध्यक्षीय सेवा के संपूर्ण आनंदमय जीवन को कर्तव्यनिष्ठ तरीके से निर्वहन करने वाले गुमला धर्मप्रांत के प्रियतम विशप पौल अलोईस लकड़ा को आज नम आंखों के साथ गुमला धर्मप्रांत की जनता ने ससम्मान अंतिम संस्कार कर दिया ।

ज्ञात रहे कि गुमला धर्मप्रांत के विशप पौल ने 15 जून की रात्रि अंतिम सांस ली थी ।इससे पहले मंगलवार दोपहर के बाद विशप पौल के पार्थिव शरीर को रांची से गुमला लाया गया और उस समय से बुधवार सुबह तक श्रध्दांजली देने वालों का तांता लगा रहा ।

उसके पश्चात् 10.00 बजे पूर्वाह्न रांची महाधर्मप्रांत के महाधर्माध्यक्ष फेलिक्स टोप्पो की अगुवाई में विशप पौल लकड़ा के अंतिम संस्कार की धर्मविधि संपन्न कराया गया।

उसके पश्चात् संत पात्रिक महागिरजाघर के अंदर अवस्थित कब्रगाह में दफन कर दिया गया।इस दफन धर्मविधि में रांची के सहायक विशप थेओदो मास्करहेंस, खूंटी के विशप विनय कंडुलना ,सिमडेगा के विशप भिंसेंट बारवा ,जमशेदपुर के विशप तेलेस्फोर विलूंग, हजारीबाग के विशप आनंद जोजो,रायगढ़ के विशप पौल टोप्पो,जशपुर के विशप एम्मानुएल केरकेट्टा आदि की गरिमामय उपस्थित रही, जिसमें गुमला धर्मप्रांत के कुछ गिने चुने पुरोहितों, धर्मबहनों, विश्वासियों एवं उनके परिजनों की विशेष उपस्थिति रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *