love marriage : लव मैरिज पर मध्यप्रदेश हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, ‘7 फेरे लेकर विधि-विधान से की गई शादी ही वैध’

ग्वालियर : लव मैरिज पर मध्यप्रदेश हाईकोर्ट का बड़ा फैसला सामने आया है। एक प्रकरण में हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने साफ कहा कि 7 फेरे लेकर विधि पूर्वक की गई शादी ही वैध मानी जाएगी। बता दें कि एक प्रेमी जोड़े ने आर्य समाज मंदिर में शादी के बाद सुरक्षा मांगने के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी। हाईकोर्ट ने यह याचिका खारिज कर यह कहते हुए सुरक्षा देने से इंकार कर दिया कि सिर्फ माला पहनाने भर को शादी नहीं माना जा सकता।

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि इस याचिका को खारिज किया जाता है। क्योंकि, इसमें एक भी ऐसा साक्ष्य प्रस्तुत नहीं किया गया, जिससे पता चले कि प्रेमी-प्रेमिका को धमकी मिली है या वे पुलिस के पास गए। गौरतलब है कि मुरैना निवासी 23 साल के लड़के ने 21 साल की लड़की के साथ 16 अगस्त को ग्वालियर के लोहा मंडी किलागेट स्थित आर्य समाज मंदिर में लव मैरिज की। आर्य समाज ने इस मैरिज का सर्टिफिकेट भी दिया। इसके बाद दोनों ने हाई कोर्ट में अपनी सुरक्षा को लेकर एक याचिका दायर की थी। इस दौरान याचिकाकर्ता ने तर्क दिया कि दोनों ने लव मैरिज की है। दोनों के परिजन झूठी शिकायतें कर रहे हैं, जिन पर कार्रवाई न की जाए। वैवाहिक संबंधों को मजबूत बनाने के लिए उनको सुरक्षा प्रदान की जाए। उनकी जान को लोगों से खतरा है।

शासकीय अधिवक्ता दीपक खोत ने इस याचिका का विरोध किया। उन्होंने कहा कि याचिकाकर्ताओं ने इसके लिए किसी भी थाने में आवेदन नहीं दिया है। उन्हें किससे खतरा है, किसने धमकी दी है, कौन परेशान कर रहा है? यह भी नहीं बताया है। सीधे कोर्ट में याचिका दायर कर दी गई है, इसलिए यह याचिका सुनवाई योग्य नहीं लगती। पूरी सुनवाई के बाद कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी।

-Agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *