अमृत सरोवर ऐसा बने, जो अगली पीढ़ी की आवश्यकताओं को पूरी करे : अर्जुन मुंडा

रांची, 20 मई । केन्द्रीय जनजातीय मामलों के मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा है कि प्रत्येक जिला में बनने वाले अमृत सरोवर ऐसा बने, जो अगली पीढ़ी की आवश्यकताओं को पूरी करे। हमें जल संरक्षण पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।साथ ही यह भी ध्यान रखें कि सरोवर के प्राकृतिक जल स्त्रोत में कोई बाधा नहीं हो। शहरों में तलब भरकर बिल्डिंग बन रहे हैं, उसपर रोक लगे।मुंडा शुक्रवार को विकास कार्यों की जानकारी के लिए खूंटी लोकसभा अंतर्गत खूंटी, सिमडेगा, गुमला, सराईकेला खरसावां, चाईबासा एवं रांची के उपायुक्तों और अन्य वरीय अधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक की।

मुंडा ने आगामी नौ जून को भगवान बिरसा मुंडा के शहादत दिवस के अवसर पर इन जिलों में होनेवाले कार्यक्रमों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर सभी जिलों में बड़ा कार्यक्रम करने का आग्रह किया, जिसमें युवाओं की भागीदारी हो। मुंडा ने कहा कि ये सभी जनजाति बहुल और आकांक्षी जिले हैं। इन जिलों में रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य और आधारभूत संरचना के लिए जनजातीय कार्य मंत्रालय अन्य मंत्रालयों के सहयोग से योजना तथा आवश्यक संसाधन उपलब्ध करा सकती है। इसके लिए जिले के उपायुक्त योजना भेज सकते हैं।झारखंड में संचार व्यवस्था दुरुस्त करने टू जी से फोर जी करने के लिए केंद्र ने 450 टावर लगाने की अनुमति दे दी है।

उन्होंने कहा कि उपायुक्त आपस में तालमेल बनाकर कृषि एवं वन उत्पादों की मार्केटिंग की समुचित व्यवस्था कर लोगों को आजीविका से जोड़ें। इसके लिए यहां फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री भी लगाए जा सकते हैं। इसके लिए मैं केंद्र सरकार से मदद करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति में क्षेत्रीय भाषाओं के माध्यम से पढ़ाई पर विशेष जोर दिया गया है। यहां जनजातीय एवं अन्य क्षेत्रीय भाषाओं को जोड़ने के लिये काम करना चाहिए। बैठक में सभी जिलों के उपायुक्तों ने अपने अपने जिला में चल रहे विकास योजनाओं के बारे में जानकारी दी।

(हि. स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.