Mango Mallika : आम प्रेमियों के बीच मल्लिका हो रही हैं लोकप्रिय

Insight Online News

नयी दिल्ली 18 जुलाई : फलों का राजा आम की मल्लिका किस्म की लोकप्रियता न केवल उत्तर प्रदेश में में बढ़ी है बल्कि इसका आकर्षक फल चौसा को टक्कर दे रहा हैं। हैरानी की बात यह है कि मल्लिका के प्रशंसक दशहरी की तीन गुना अधिक कीमत चुकाने को तैयार हैं। लखनऊ में आम की पसंद चौसा और लखनऊ सफेदा हैं, लेकिन इस वर्ष गोमती नगर में आप फलों की दुकानों में मुस्कुराते हुए मल्लिका के फल भी खरीद सकते हैं।

इस तथ्य के बावजूद कि लखनऊ में केंद्रीय आम अनुसंधान केंद्र (अब केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान) ने 1975 में मल्लिका के पौधों को लखनऊ में लगाया पर विगत कई दशकों तक इस किस्म के फल बाजार में उपलब्ध नहीं थे। इसका मुख्य कारण मलिहाबाद में आम के बागों और आसपास के क्षेत्रों में मल्लिका के कम संख्या में पौधे पाए जाते हैं। बागवानो ने धीरे-धीरे महसूस किया कि मल्लिका स्वाद, रूप और खाने के गुणों के मामले में एक उत्कृष्ट किस्म है। चूंकि अधिकांश लोग इस किस्म के फलों की उच्च गुणवत्ता से अनजान थे, इसलिए नई किस्म होने के कारण बाज़ार में कम मात्रा में उपलब्ध थे। कई दशकों तक केवल कुछ बागवान या आम के कुछ विशेष प्रेमी इस विशेष किस्म का मजा लेते रहे। यह बाज़ार में देर से आने वाली किस्म है और देश के अधिकांश आम उगाने वाले क्षेत्रों में अधिक उपज देने वाली साबित हुई है। यह कर्नाटक और तमिलनाडु में व्यवसायिक तौर पर उगाई जा रही है क्योंकि बेंगलुरु के बाजार में फल बहुत अच्छी कीमत पर बेचे जाते हैं।

संस्थान के निदेशक शैलेन्द्र राजन के अनुसार दक्षिण भारतीय आम नीलम मल्लिका की माता है और पिता दशहरी। फल का आकार माता-पिता दोनों से ही काफी बड़ा होता है, कुछ फलों का वजन 700 ग्राम से अधिक हो जाता है। पहले फल तोड़ने पर पकने के बाद भी फलों में खटास रहती है लेकिन जब उन्हें सही अवस्था में तोडा जाए तो मिठास और खटास का अद्भुत संतुलन मिलता है। विशेष स्वाद के अतिरिक्त फल का गूदा सख्त होता है इसलिए स्वाद और बेहतरीन हो जाता है| फल नारंगी पीले रंग का होता है, जिसमें आकर्षक गहरे नारंगी रंग का गूदा और एक बहुत पतली गुठली होती है। फल में भरपूर गूदा होने के कारण ग्राहक को पैसे की अच्छी कीमत मिल जाती है।

गोमती नगर के एक वेंडर के मुताबिक, मल्लिका के बारे में जानने वाले लोग इस विशेष किस्म के फल की मांग करते हैं। मल्लिका के फल का मजा लेने के बाद लोग इस किस्म के दीवाने हो जाते हैं। किस्म प्रेमी एक किलो के लिए सौ रुपये तक देने को तैयार हैं, जबकि विक्रेता को देश के अन्य शहरों में इस किस्म के बेचने के लिए संघर्ष करना पड़ता है। कई जगह विक्रेता चौसा और कुछ अन्य किस्मों की आड़ में मल्लिका को बेचकर लोगों को गुमराह करते हैं।

आम की एक किस्म को लोकप्रिय होने में कई दशक लग जाते हैं। उदाहरण के लिए, मल्लिका के मामले में, लोगों को इसकी उत्कृष्ट फल गुणवत्ता के बारे में जानने में लगभग 40 साल लग गए। मल्लिका के पौधों की विभिन्न आम उत्पादक क्षेत्रों में मांग बढ़ रही है और तो और जापानियों को भी यह किस्म बहुत पसंद आ रही है।

एक अच्छी तरह से पका हुआ मल्लिका फल अल्फांसो, दशहरी और चौसा जैसी शीर्ष किस्मों में से किसी को भी मात दे सकता है। हालांकि, पेड़ से फल को उचित समय पर चुनना महत्वपूर्ण है; अन्यथा, किस्म के असली स्वाद का आनंद नहीं लिया जा सकता है।

विभिन्न किस्मों की मांग बढ़ने से शहर में आम विक्रेताओं की बेचने की शैली भी बदल रही हैं। वे चौसा, लखनऊ सफेदा के अतिरिक्त कई अन्य किस्मों को एक ही समय में बेचते हैं। कुछ साल पहले, आम के मौसम के अंत मे केवल चौसा और लखनऊ सफेदा के ही फल मिलते थे।

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *