सेहत के लिए फायदेमंद है पुदीना, पाचन तंत्र को बनाता है मजबूत

Insight Online News

पुदीने में आयरन, पोटैशियम, मैंग्नीज, विटामिन ए, विटामिन सी, और बी-कॉम्प्लेक्स, प्रोटीन जैसे तत्व पाए जाते हैं, जो मोटापा कम करने के साथ शरीर को कई तरह के लाभ पहुंचाने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार पुदीने को वायु नाशक जड़ी-बूटी माना जाता है। पुदीने से सीने में जलन, मितली और एसिडिटी में भी राहत मिलती है। पुदीने के पत्ते के सेवन से सेहत को कई सारे लाभ होते हैं।

बढ़ता वजन आज हर दूसरे व्यक्ति के लिए एक बड़ी समस्या बन चुका है। जरूरत से ज्यादा मोटापा न सिर्फ आपकी पर्सनैलिटी खराब कर देता है बल्कि आपको कई रोगों का शिकार भी बना सकता है। इस समस्या से छुटकारा दिलाने में पुदीना आपकी मदद कर सकता है। पुदीने में आयरन, पोटैशियम, मैंग्नीज, विटामिन ए, विटामिन सी, और बी-कॉम्प्लेक्स, प्रोटीन जैसे तत्व पाए जाते हैं, जो मोटापा कम करने के साथ शरीर को कई तरह के लाभ पहुंचाने में मदद करता है।

  • पाचन तंत्र को बनाता है मजबूत

पुदीने में एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, ऐसे में ये पाचन क्रिया को बेहतर बनाता है। डाइजेशन संबंधी समस्या को दूर करने के लिए पुदीना काफी फायदेमंद साबित होता है। एसिडिटी की समस्या हो तो एक कप गुनगुने पानी में आधा छोटा चम्मच पुदीना का रस मिलाकर पी लें।

नाक बंद हो तो पुदीने के पत्ते को सूंघने से लाभ होता है। गले में खराश हो रही हो तो पुदीने का काढ़ा बना कर पीने से आराम महसूस होता है। काढ़ा बनाने के लिए एक कप पानी में 10-12 पुदीने के पत्ते डालकर इसे तब तक उबालें जब तक कि ये आधा न हो जाए। अब इस पानी को छान कर थोड़ी सी शहद मिलाकर पी लें।

पुदीने के बेस वाले बाम या पुदीना का तेल लगाने से सिरदर्द में आराम मिलता है।

पुदीना में रोगाणुनाशक गुण होते हैं, इसके पत्तों को चबाने से सांस से आने वाली बदबू दूर हो जाती है। इसके साथ ही ये मुंह के कीटाणुओं को भी मारता है और ओवरऑल ओरल हेल्थ का ख्याल रखता है।

पुदीना में कैलोरी काफी कम होते हैं, इसका सेवन करते हैं तो आप एक्स्ट्रा कैलोरी लेने से बच पाते हैं। स्ट्रेस की वजह से भी वजन कई बार बढ़ जाता है, पुदीने के पत्तों में ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस कम करने के गुण होते हैं।

पुदीना स्किन सेल्स को नई उर्जा देता हैं, इसलिए तो कई सारे ब्यूटी प्रोडक्ट्स में पुदीने का इस्तेमाल होता है। इससे त्वचा की नमी भी बरकरार रहती है।एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल गुणों की वजह ये स्किन की अशुद्धता को दूर करने में भी ये मददगार होता है।

जी मिचलाने या उल्दी होने पर पुदीना का सेवन काफी फायदेमंद होता है। ये माउथ फ्रेशनर की तरह भी यूज किया जाता है. जी मिचलाने पर आप पुदीने के पत्तों को चबाकर खाएं तो राहत मिलेगी।

पुदीने की पत्तियों की मदद से आप पुदीना डिटॉक्स वॉटर तैयार कर कर सकते हैं। ये वॉटर शरीर की गंदगी को बाहर निकालने में मदद करता है। इसे बनाने के लिए आप पुदीने की पत्तियां, सेब, अनार और नींबू को एक साथ डालकर उसका जूस तैयार कर लें। इसके बाद इस जूस को छानकर इसका सेवन करें। ऐसा करने से शरीर की गंदगी के साथ एक्ट्ररा वजन भी कम करने में मदद मिल सकती है।

पुदीना वाला नींबू पानी पीने से शरीर को ठंडक मिलने के साथ वजन भी कम हो सकता है। इसके लिए पुदीना की फ्रेश पत्तियां, नींबू और काला नमक की मदद से एक ड्रिंक तैयार करें।

गर्मियों में दही या दही से बनी चीजें खाना सेहत के लिए बेहद गुणकारी माना जाता है। दही में पाए जाने वाले गुण पेट में ठंडक पहुंचाकर गर्मी के असर को कम करने में मदद करते हैं। इसके लिए आप पुदीने की पत्तियों से बने रायते का सेवन कर सकते हैं। इससे वजन को कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.