Mumbai Congress : मुंबई कांग्रेस में भी गूंजे कलह के स्वर

Insight Online News

नयी दिल्ली 15 अक्टूबर : केंद्रीय स्तर पर नेतृत्व परिवर्तन को लेकर वरिष्ठ नेताओं के विरोधी स्वर से घिरी कांग्रेस पंजाब, राजस्थान, कर्नाटक और छत्तीसगढ़ के बाद अब मुंबई में भी अंतर्कलह से जूझ रही है।

मुंबई कांग्रेस के वरिष्ठ नेता विश्व बंधु राय ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कहा है कि मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष भाई जगताप उत्तर भारत के लोगों की पीड़ा की अनदेखी कर रहे है और जब उनके साथ अत्याचार होता है तो कांग्रेस आवाज तक नहीं उठाती है।

उन्होंने कहा कि भाई जगताप ने उत्तर भारतीय पंचायत की शुरुआत की है लेकिन इसको लेकर उत्तर भारत के नेताओं से कोई संपर्क नहीं किया गया और उनकी उपेक्षा की गई है। इसमें भी मनमानी हुई और सिर्फ खानापूर्ति के लिए ही यह कदम उठाया गया है।

उन्होंने कहा कि मुंबई में आए दिन उत्तर भारत के लोगों को प्रताड़ित किया जाता है लेकिन पार्टी में उनकी पीड़ा को लेकर उनकी बात नही सुनी जाती है। उत्तर भारत से जुड़े नेताओं की बात और दबीन निहि दिया जाता है और उनकी मांग की सुनवाई नहीं होती है।

श्री राय ने कहा कहा कि जल्द ही मुंबई महानगर पालिका के चुनाव होने वाले हैं। बीएमसी से सबसे ज्यादा प्रताड़ित उत्तर भारत के लोगों को किया जाता है तब प्रदेश अध्यक्ष चुप रहते हैं। हाल ही में बंद के दौरान उत्तर भारतीयों की पिटाई हुई है लेकिन प्रदेश अध्यक्ष ने कुछ नहीं बोला। उन्हीने पार्टी के प्रभारी एच सी पाटिल पर भी हमला किया और कहा कि उन्हें न मराठी आती है और ना ही हिंदी आती है तो वह लोगो की समस्या कैसे सुनेंगे।

उन्होंने कहा कि मुंबई में उत्तर भारतीयों की संख्या बहुत ज्यादा है और वे कई सीटों पर प्रभावशाली है, इसके बावजूद मुंबई कांग्रेस में उत्तर भारतीयों की उपेक्षा की गई है। उन्होंने श्रीमती गांधी से मुंबई में कांग्रेस की मजबूती के लिए उत्तर भारत के लोगों को महत्व देने की अपील की है और कहा है कि इस बारे मे मुम्बई प्रदेश अध्यक्ष को निर्देश दिया जाना चाहिए।

अभिनव प्रियंका, वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *