National : दाऊद का सहयोगी 17 अगस्त तक एनआईए की हिरासत में

मुंबई 05 अगस्त : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की एक विशेष अदालत ने गैंगस्टर छोटा शकील के कथित सहयोगी सलीम कुरैशी उर्फ ​​सलीम फ्रूट को शुक्रवार को 17 अगस्त तक एनआईए की हिरासत में भेज दिया।
केंद्रीय एजेंसी ने कुरैशी को इस साल फरवरी में एजेंसी द्वारा दर्ज मामले के सिलसिले में चार अगस्त को गिरफ्तार किया था।
एनआईए ने दावा किया कि फ्रूट डी-कंपनी का करीबी सहयोगी है और उसने डी-कंपनी की आतंकवादी गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए आतंकी फंड जुटाने के लिए संपत्ति के सौदे तथा विवाद निपटान के माध्यम से शकील के नाम पर भारी मात्रा में धन उगाहने में सक्रिय भूमिका निभाई है। इस साल मई में एनआईए ने इस मामले में सलीम फ्रूट से भी पूछताछ की थी।
इस साल की शुरुआत में, एनआईए ने गोरेगांव निवासी आरिफ अबुबकर शेख और उसके भाई शब्बीर अबुबकर शेख, निवासी मीरा रोड को डी-कंपनी की अवैध गतिविधियों में शामिल होने तथा मुंबई के पश्चिमी उपनगरों में आतंक के वित्तपोषण में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया था।
एनआईए ने नौ मई को मुंबई में 24 और मीरा रोड में पांच जगहों पर छापेमारी की थी। दाऊद इब्राहिम के संदिग्ध सहयोगियों के परिसरों में की गई तलाशी के दौरान, इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों, अचल संपत्ति में निवेश के दस्तावेज, भारी नकदी और आग्नेयास्त्रों सहित विभिन्न आपत्तिजनक सामग्री जब्त की गई।
यह मामला दाऊद इब्राहिम कास्कर और उसके साथियों सहित हाजी अनीस उर्फ ​​अनीस इब्राहिम शेख, शकील शेख उर्फ ​​छोटा शकील, जावेद पटेल उर्फ ​​जावेद चिकना और इब्राहिम मुश्ताक अब्दुल रज्जाक मेमन उर्फ ​​से जुड़े डी-कंपनी के अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी नेटवर्क की आतंकी/आपराधिक गतिविधियों से संबंधित है। टाइगर मेमन हथियारों की तस्करी, नार्को-आतंकवाद, मनी लॉन्ड्रिंग, एफआईसीएन के चलन में और अनाधिकृत कब्जे में लिप्त हैं ।इसके अलावा आतंकी फंड जुटाने के लिए प्रमुख संपत्ति के अधिग्रहण के साथ साथ लश्कर-ए-तैयबा सहित अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी संगठन के साथ सक्रिय सहयोग में काम कर रहे हैं।
एनआईए ने इस साल तीन फरवरी को स्वत: संज्ञान लेते हुए यह मामला दर्ज किया था।
सैनी.संजय
वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published.