National : दिल्ली से ग्वालियर की दूरी तीन घंटे में होगी पूरी – गड़करी

ग्वालियर, 15 सितंबर : केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी ने आज कहा कि केंद्र सरकार ‘ग्रीन हाइवे’ से जुड़ी एक ऐसी परियोजना पर कार्य कर रही है, जिसके पूर्ण होने पर दिल्ली से ग्वालियर के बीच की दूरी सड़क मार्ग से मात्र तीन घंटे में पूरी की जा सकेगी।

श्री गड़करी ने यहां देर शाम को आयोजित कार्यक्रम में 1128 करोड़ रुपयों की लागत वाली सात सड़क परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, लोक निर्माण विभाग मंत्री गोपाल भार्गव, जल संसाधन मंत्री एवं ग्वालियर जिले के प्रभारी तुलसी सिलावट भी मौजूद थे।

श्री गड़करी ने अपने संबोधन में राज्य से संबंधित अनेक महत्वाकांक्षी सड़क परियोजनाओं की घोषणाएं कीं। उन्होंने बताया कि दिल्ली से पास यमुना क्षेत्र से ग्वालियर तक ग्रीन हाइवे बनाया जा रहा है। इसके पूर्ण होने पर शमशाबाद, धौलपुर और मुरैना जिले से होते हुए ग्वालियर बायपास मार्ग तक लगभग तीन घंटे में पहुंचा जा सकेगा। उन्होंने संभावना व्यक्त की कि यह योजना आने वाले कुछ वर्षों में पूर्ण हो जाएगी।

उन्होंने चंबल अंचल में प्रस्तावित अटल प्रोग्रेस वे का जिक्र करते हुए कहा कि इसकी लागत लगभग 20 हजार करोड़ रुपए है। कुल 415 किलोमीटर लंबे इस मार्ग का अधिकांश हिस्सा तीन सौ किलोमीटर के आसपास मध्यप्रदेश से होकर गुजरेगा। श्री गड़करी ने मंचासीन मुख्यमंत्री और मंत्रियों से अनुरोध किया कि वे इस अंचल में बनीं नयी सड़कों के किनारे पेड़ लगाने के कार्य को हाथ में लें। इस कार्य में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) पूरी मदद करेगा।

श्री गड़करी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सीहोर जिले में स्थित बुधनी विधानसभा और इसके आसपास से गुजरने वाली एक सड़क को भी राष्ट्रीय राजमार्ग के अधीन लाने की घोषणा करते हुए कहा कि इस सड़क का निर्माण कार्य भी शीघ्र किया जाएगा। उन्होंने कहा कि श्री चौहान इस सड़क के लिए अनुरोध कर रहे थे। उन्होंने ग्वालियर चंबल अंचल के अलावा इंदौर, जबलपुर और सागर आदि क्षेत्रों से जुड़ी परियोजनाओं के बारे में भी बताया और कहा कि इन सब पर कार्य चल रहा है।

श्री गड़करी ने बताया कि इन दिनों वे ‘हवा में चलने वाली बस’ से संबंधित परियोजना पर भी कार्य कर रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री चौहान की ओर मुखातिब होते हुए कहा कि भोपाल की ऐतिहासिक झील के ऊपर इस परियोजना के क्रियान्वयन के बारे में भी विचार किया जा सकता है। हालाकि उन्होंने इस मौके पर इस संबंध में और विवरण नहीं दिया। अलबत्ता यह अवश्य कहा कि राज्य सरकार की ओर से ग्वालियर और भोपाल समेत 15 स्थानों पर रोप वे निर्माण का प्रस्ताव आया है और इस पर भी तेजी से कार्य चल रहा है।

प्रशांत

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *