National : ‘जी-20 को बुद्ध का युद्ध से मुक्ति, गांधी का हिंसा का प्रतिरोध सिखाएंगे’

नयी दिल्ली 11 नवंबर : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि भारत विश्व में आर्थिक रूप से शक्तिशाली 20 देशों के समूह जी-20 की अध्यक्षता काल में भारत गौतम बुद्ध और महात्मा गांधी के युद्ध से मुक्ति एवं हिंसा के प्रतिरोध के साथ शांति, समाधान एवं समृद्धि की राह दिखाएगा।

श्री मोदी ने आज यहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विदेश मंत्रालय के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जी-20 के नये प्रतीक चिह्न एवं नारे का लोकार्पण किया और कहा कि ‘एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य’ का नारा भारत के संस्कारों एवं संस्कृति से विश्व कल्याण का मार्ग प्रशस्त करेगा। नये प्रतीक चिह्न में कमल के पुष्प पर विराजित पृथ्वी एवं कमल की सात पंखुड़ियों के माध्यम से सातों महाद्वीपों की एकजुटता और सौहार्द्र से समृद्धि एवं प्रगति का संदेश मिलता है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “आगामी एक दिसंबर से भारत जी-20 की अध्यक्षता करेगा। भारत के लिए यह एक ऐतिहासिक अवसर है। इसलिए आज जी-20 के शिखर सम्मेलन की वेबसाइट, थीम और लोगो को लांच किया गया है। इस अवसर पर मैं सभी देशवासियों को बहुत-बहुत बधाई देता हूं।”

उन्होंने कहा कि जी-20 ऐसे देशों का समूह है, जिनका आर्थिक सामर्थ्य, विश्व की 85 फीसदी सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी), विश्व के 75 प्रतिशत व्यापार तथा विश्व की दो तिहाई जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करता है। भारत अब इस जी-20 समूह का नेतृत्व करने जा रहा है। आजादी के इस अमृतकाल में देश के सामने ये कितना बड़ा अवसर आया है। ये हर भारतवासी का गौरव बढ़ाने वाली बात है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज जो ये प्रतीक चिह्न का लोकार्पण हुआ है, उसके निर्माण में भी देशवासियों की बहुत बड़ी भूमिका रही है। इस प्रतीक चिह्न और थीम के जरिए हमने एक संदेश दिया है। युद्ध के लिए बुद्ध के जो संदेश हैं। हिंसा के प्रतिरोध में म​हात्मा गांधी के जो समाधान हैं। जी-20 के जरिए भारत उनकी वैश्वि​क प्रतिष्ठा को नई ऊर्जा दे रहा है। उन्होंने कहा, “जी-20 का ये प्रतीक चिह्न केवल एक प्रतीक चिन्ह नहीं है। ये एक संदेश, एक भावना है जो हमारी रगों में है। ये एक संकल्प है जो हमारी सोच में शामिल रहा है।”

उन्होंने कहा कि आज विश्व इलाज की जगह आरोग्य की तलाश कर रहा है। हमारा आयुर्वेद, हमारा योग, जिसे लेकर दुनिया में एक नया उत्साह और विश्वास है। हम उसके विस्तार के लिए एक वैश्विक व्यवस्था बना सकते हैं।

भारत विश्व का इतना समृद्ध और सजीव लोकतंत्र है। हमारे पास लोकतंत्र के संस्कार भी हैं, और लोकतंत्र की जननी के रूप में गौरवशाली परंपरा भी है।

श्री मोदी ने कहा कि भारत एक ओर विकसित देशों से घनिष्ठ रिश्ते रखता है, और साथ ही विकासशील देशों के दृष्टिकोण को भी अच्छी तरह से समझता है, उसकी अभिव्यक्ति करता है। हमारा प्रयास रहेगा कि विश्व में कोई भी प्रथम विश्व या तृतीय विश्व न हो, बल्कि केवल एक विश्व हो।

उन्होंने कहा, “भारत ने ‘एक सूर्य, एक विश्व, एक ग्रिड’ के मंत्र के साथ विश्व में नवीकरणीय ऊर्जा क्रांति का आह्वान किया है। भारत ने ‘एक पृथ्वी, एक स्वास्थ्य’ के मंत्र के साथ वैश्विक स्वास्थ्य को मजबूत करने का अभियान शुरू किया है। और अब जी-20 में भी हमारा मंत्र है, ‘एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य’।” उन्होंने कहा कि यह मंत्र भारत के विश्व कल्याण के संदेश का मार्ग प्रशस्त करता है।

प्रधानमंत्री ने सभी राजनीतिक दलों एवं राज्य सरकारों का आह्वान करते हुए कहा कि जी-20 की अध्यक्षता एवं मेजबानी केन्द्र सरकार का विषय नहीं बल्कि समूचे देश एवं सभी भारतीयों का विषय है। देश के कोने कोने में इसके आयोजन होंगे। राज्य सरकारों को अपने अपने राज्यों में कार्यक्रमों की रचना करें और भारत की आतिथ्य परंपरा, सांस्कृतिक विविधता, भौगोलिक खूबसूरती एवं आर्थिक प्रगति से विश्व को परिचित कराने में योगदान दें।

सचिन

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *