National : विश्व भुखमरी रिपोर्ट में भारत 107वें स्थान पर

नयी दिल्ली, 15 अक्टूबर : दुनिया में भुखमरी के विषय पर अद्यतन वार्षिक रिपोर्ट- ग्लोबल हंगर इंडेक्स (जीएचआई),2022 में भारत एक साल पहले के 101 स्थान से नीचे खिसक कर 107वें स्थान पर पहुंच गया है।

इस रिपोर्ट में भारत की स्थिति पड़ोसी देश पाकिस्तान, बंगलादेश और नेपाल से नीचे दर्शायी गयी है। ग्लोबल हंगर इंडेक्स द्वारा उसकी वेबसाइट पर शनिवार को जारी जीएचआई में भारत को 29.1 दिया गया है।

इस बार भारत 121 देशों में 107वें स्थान पर है।

वर्ष 2021 में भारत 116 देशों में से 101वें स्थान पर था।

भारत का जीएचआई स्कोर- 2000 में 38.8 से 2014 और 2022 के बीच यह 28.2 – 29.1 के बीच रहा है। इस बार के सूचकांक में शीर्ष 17 देशों का 2022 का जीएचआई स्कोर पांच से कम है। इनमें बेलारुस, बोस्निया-हर्जेगोविना, चिली, चीन, कुवैत, तुर्की और हंगरी आदि है।

रिर्पोर्ट में कहा गया है कि इस बार कुल 136 देशों के आंकड़ों का आकलन किया गया था, लेकिन 121 देशों के आंकड़े सूचकांक के लिए पर्याप्त पाए गए।

रिपोर्ट में चार देशों बुरुंडी, सोमालिया, दक्षिण सूडान और सीरिया की स्थिति को गंभीर निरूपित किया गया है। इनका जीएचआई स्कोर 35-49.9 के दायरे में है।

म्यामार को रिपोर्ट में 71वें, नेपाल को 81वें और बंगलादेश को 84वें स्थान पर है।

भारत सरकार ने पिछले वर्ष रिपोर्ट में भारत को 100 से भी नीचे रखे जाने पर आपत्ति की थी और इसे ‘जमीनी वास्तविकता से दूर’ का निष्कर्ष बताया था। भारत ने यह भी कहा था कि ग्लोबल हंगर इंडेक्स की गणना पद्धति अवैज्ञानिक है।

गौरतलब है कि भारत सरकार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मार्च 2020 से आबादी के एक बड़े हिस्से को मुफ्त अनाज दे रही है। इस समय 80 करोड़ आबादी को इसका लाभ मिल रहा है।

इस रिपोर्ट को तैयार करने वाली संस्थाओं में से एक वेल्ट हंगर हिल्फ ने भारत की इस आलोचना का प्रतिवाद किया था कि देश की रैंकिंग में गिरावट संयुक्त राष्ट्र को उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के बजाय त्वरित जनमत संग्रह पर आधारित थी।

पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के नेता पी चिदंबरम ने रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के आठ साल में 2014 के बाद से हमारा स्कोर खराब हुआ है।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा,“ माननीय प्रधानमंत्री बच्चों के बीच कुपोषण, भूख, बौनेपन और क्षय जैसी वास्तविक समस्याओं का समाधान कब करेंगे?”

ग्लोबल हंगर इंडेक्स इस क्षेत्र में काम करने वाली कुछ प्रमुख संस्थाओं की एक समीक्षा रिपोर्ट है। इसे कंसर्न वर्ल्डवाइड और वेल्टहंगरहिल्फ़ द्वारा प्रकाशित किया गया है। इसका उद्देश्य वैश्विक, क्षेत्रीय और अलग-अलग देशों के स्तर पर व्यापक रूप से आबादी में भोजन के अभाव भुखमरी का मानचित्रण करना और दुनिया को इसका समाधान करने के लिए प्रेरित करना है।

मनोहर.श्रवण

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *