National : मोदी ने किया 5जी का शुभारंभ, 13 शहरों में होगी इसकी शुरूआत

नयी दिल्ली, 01 अक्तूबर : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को इंडिया मोबाइल कांग्रेस में देश में 5 जी सेवाओं की शुरूआत की और इस दौरान उन्होंने 5 जी आधारित उत्पादों का अवलोकन भी किया। इसके साथ ही देश के 13 शहरों में 5 जी सेवाओं की शुरूआत हो रही है।

प्रधानमंत्री ने राजधानी के प्रगति मैदान में आज से चार दिवसीय इंडिया मोबाइल कांग्रेस का भी शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री ने 5 जी की शुरूआत के लिए देशवासियों को बधाई देते हुये कहा कि टेलीकॉम इंडस्ट्री की ओर से 130 करोड़ भारतीयों को 5जी के तौर पर एक शानदार उपहार मिला है। 5जी, देश के द्वार पर नए दौर की दस्तक है। 5जी, अवसरों के अनंत-आकाश की शुरुआत है। उन्होंने कहा कि नया भारत, टेक्नॉलजी का सिर्फ़ उपभोक्ता बनकर नहीं रहेगा बल्कि भारत उस टेक्नॉलजी के विकास में, उसके क्रियानव्यन में सक्रिय भूमिका निभाएगा। भविष्य की वायरलेस टेक्नॉलजी को डिजाइन करने में, उस से जुड़ी विनिर्माण में भारत की बड़ी भूमिका होगी।

श्री मोदी ने कहा कि 2 जी, 3 जी, 4 जी के समय भारत टेक्नॉलजी के लिए दूसरे देशों पर निर्भर रहा। लेकिन 5जी के साथ भारत ने नया इतिहास रच दिया है।5जी के साथ भारत पहली बार टेलीकॉम टेक्नॉलजी में वैश्विक मानक तय कर रहा है।

उन्होंने डिजिटल इंडिया का उल्लेख करते हुये कहा कि कुछ लोग समझते हैं ये सिर्फ एक सरकारी योजना है। लेकिन डिजिटल इंडिया सिर्फ एक नाम नहीं है, ये देश के विकास का बहुत बड़ा विजन है। इस विजन का लक्ष्य है उस प्रौद्योगिकी को आम लोगों तक पहुंचाना जो लोगों के लिए काम करे, लोगों के साथ जुड़कर काम करे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने चार स्तंभो पर, चार दिशाओं में एक साथ फोकस किया। पहला डिवाइस की कीमत,दूसरा डिजिटल कनेक्टिविटी,तीसरा डेटा की कीमत और चौथा डिजिटल फर्स्ट की सोच। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में जीरो मोबाइल फोन निर्यात करने से लेकर आज हजारों करोड़ के मोबाइल फोन निर्यात करने वाले देश बन चुके हैं। स्वाभाविक है इन सारे प्रयासों का प्रभाव डिवाइस की कीमत पर पड़ा है। अब कम कीमत पर ज्यादा फीचर भी मिलने लगे हैं।

उन्होंने कहा कि जैसे सरकार ने घर-घर बिजली पहुंचाने की मुहिम शुरू की ,जैसे हर घर जल अभियान के जरिए हर किसी तक साफ पानी पहुंचाने के मिशन पर काम किया ,जैसे उज्जवला योजना के जरिए गरीब से गरीब आदमी के घर में भी गैस सिलेंडर पहुंचाया, वैसे ही उनकी सरकार इंटरनेट फार ऑल के लक्ष्य पर काम कर रही है। एक वक्त था जब इलीट क्लास के कुछ मुट्ठी भर लोग गरीब लोगों की क्षमता पर संदेह करते थे। उन्हें शक था कि गरीब लोग डिजिटल का मतलब भी नहीं समझ पाएंगे। लेकिन मुझे देश के सामान्य मानवी की समझ पर, उसके विवेक पर, उसके जिज्ञासु मन पर हमेशा भरोसा रहा है।

प्रधानमंत्री ने विपक्षियों पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा,“हमारी सरकार के प्रयासों से भारत में डेटा की कीमत बहुत कम बनी हुई है। ये बात अलग है कि हमने इसका हल्ला नहीं मचाया, बड़े-बड़े विज्ञापन नहीं दिए। हमने फोकस किया कि कैसे देश के लोगों की सहूलियत बढ़े, ‘ईज़-ऑफ-लिविंग’ बढ़े।”

इससे पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने भरोसा दिलाया कि जल्द ही देश, 5जी की सुपरफास्ट इंटरनेट सेवाओं का आनंद ले पाएगा। दीवाली तक चुनिंदा मैट्रो शहरों में और 2023 के अंत तक पूरे देश के हर शहर और हर तालुका में 5 जी सर्विस शुरू कर दी जाएगी। उन्होंने संकेत दिया कि दुनिया के मुकाबले भारत में 5जी सेवाएं सस्ती होंगी। उन्होंने कहा, “5जी का रोलआउट भारत के दूरसंचार इतिहास में कोई सामान्य घटना नहीं है। देश ने भले ही थोड़ी देर से शुरुआत की हो, लेकिन हम दुनिया की तुलना में उच्च गुणवत्ता वाली और अधिक किफायती 5जी सेवाओं को शुरू करेंगे।”

उन्होंने 5जी को डिजिटल कामधेनु बताया और प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 5जी के लिए उठाए गए कदमों की सरहाना भी की और कहा कि 5जी अगली पीढ़ी की कनेक्टिविटी तकनीक से कहीं बढ़कर है। यह एक मूलभूत तकनीक है जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, रोबोटिक्स, ब्लॉकचैन और मेटावर्स जैसी अन्य टेक्नोलॉजी की पूरी क्षमता को पूरी तरह अनलॉक करेगी।

उन्होंने प्रधानमंत्री की सराहना करते हुए कहा, “वो गर्व जो हर भारतीय को महसूस हुआ है। आपके नेतृत्व ने विश्व स्तर पर भारत की प्रतिष्ठा, प्रोफ़ाइल और शक्ति को पहले से कहीं अधिक बढ़ाया है। आज की तेजी से बदलती दुनिया में भारत को शीर्ष पर चढ़ने से कोई रोक नहीं पाएगा – एक ऐसा स्थान जिस पर हमारा अधिकार है। भारत और भारतीय इससे कम पर समझौता नहीं कर सकते। इंडिया मोबाइल कांग्रेस में हम सभी आपको विश्वास दिलाते हैं कि हम एक साथ काम करेंगे और आपके मार्गदर्शन में हम उस शानदार भविष्य की ओर कदम बढ़ाएंगे, जो भविष्य हमारे महान राष्ट्र का इंतजार कर रहा है।”

उन्होंने संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव को भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) को मजबूत करने के उनके प्रयासों के लिए बधाई देते हुए कहा कि एक मजबूत बीएसएनएल इस उद्योग में एक सरकारी इकाई के तौर पर संतुलनकारी व्यवस्था लाएगा।

प्रधानमंत्री के सामने भारती एयरटेल के सुनील भारती मित्तल ने बेहद दिलचस्प बात कही। उन्होंने माना है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष मुकेश अंबानी बहुत तेज रफ्तार से टेक्नोलॉजी को आगे ले गए जिसके कारण बाकी टेलीकॉम ऑपरेटरों को भी अपनी स्पीड बढ़ानी पड़ी। उन्होंने कहा कि 5 जी सेवा की शुरूआत से एक नये युग की शुरूआत हुयी है। प्रधानमंत्री के प्रयास से यह संभव हुआ है और इससे देश में एक नयी ऊर्जा का संचार होगा। हम सौभाग्यशाली हैं कि हमारा नेतृत्व एक ऐसे प्रधानमंत्री कर रहे हैं जो तकनीक को बहुत बारीकी से समझते हैं और देश के विकास में उसका उपयोग भी करते हैं। श्री मित्तल ने कहा कि इससे देशवासियों के लिए समुद्र जैसा अवसर खुलेगा। ग्रामीण क्षेत्रों को इसका सबसे अधिक लाभ होगा। उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान पूरा ट्रैफीक गांव और घरों में सिमट गया लेकिन देश की धड़कन एक सेकेंड के लिए नहीं रूकी। इसका पूरा श्रेय डिजिटल विजन काे जाता है। उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया, मेक इन इंडिया और स्टार्टअप इंडिया जैसे अभियानों के बल पर अब देश में पर्याप्त संख्या में यूनिकॉर्न बनने लगे हैं और अब 5 जी के आने से तो इसमें तेजी से बढोतरी होगी।

आदित्य बिरला समूह के अध्यक्ष कुमार मंगलम बिरला ने 5 जी की शुरूआत किये जाने को परिवर्तनकारी बताते हुये कहा कि प्रधानमंत्री के बल पर ही भारत आज वैश्विक मंच पर उभर कर आ रहा है। टेलीकॉम उद्योग का सहयोग करने के लिए उन्होंने प्रधानमंत्री को धन्यवाद देते हुये कहा कि महामारी के दौरान जो सहयोग मिला उसके बल ही यह उद्योग तेजी से आगे बढ़ पाया है। उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षाें में 5 जी के उपयोग भारी तेजी आने की संभावना है।

श्री मोदी ने प्रदर्शनी के भ्रमण के दौरान जियो ट्रु 5 जी तकनीक का जियो-ग्लास पहनकर वर्चुअल रियलिटी का रियल टाइम एक्पिरियंस किया। इस दौरान रिलायंस जियो के अध्यक्ष आकाश अंबानी प्रधानमंत्री को जियो-ग्लास के बारे में बताते दिखे। इससे पहले रिलायंस के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने जियो पवेलियन पर प्रधानमंत्री का स्वागत किया। श्री मोदी ने एयरटेल के पवेलियन में भी 5 जी का स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में उपयोग को देखा। इसके बाद उन्होंने वोडाफोन आइडिया के 5 जी नेटवर्क पर दिल्ली मेट्रो की सुरंग की खुदाई में लगे मजदूरों से भी बात कही।

उन्होंने महाराष्ट्र में जियो के 5 जी नेटवर्क पर एक स्कूल में छात्रा से चर्चा की तथा एयरटेल के 5 जी नेटवर्क पर उत्तर प्रदेश में स्कूली छात्रों से बात की।

शेखर.संजय

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *