National : जल जीवन मिशन को जन आंदोलन बनाने की आवश्यकता: धनखड़

नयी दिल्ली 21 अक्टूबर: उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने जल जीवन मिशन (जेजेएम) की सफलता के लिए ‘गुणवत्ता, मात्रा और निरंतरता पर जोर देते हुए कहा है कि इसे जन आंदोलन बनाया जाना चाहिए।

श्री धनखड़ ने शुक्रवार को उपराष्ट्रपति निवास में आयोजित एक समारोह में जल जीवन सर्वेक्षण टूलकिट – 2023 और डैशबोर्ड का लोकार्पण करते हुए कहा कि सरकार की ये पहल योजना में पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए एक महत्वपूर्ण माध्यम साबित होगी। इस अवसर पर जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत‌ अधिकारी मौजूद थे।

जल शक्ति मंत्रालय ने टूलकिट का विकास राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को मूल्यांकन मानदंडों को समझने में मदद करने के लिए किया गया है और सर्वेक्षण का व्यापक उद्देश्य राज्यों तथा जिला पदाधिकारियों को बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रयास करने और ग्रामीण घरों में जल सेवा वितरण में सुधार करने के लिए प्रोत्साहित करना है।

उपराष्ट्रपति ने विश्वास व्यक्त किया कि प्रत्येक ग्रामीण परिवार में जल्द ही नल‌ का पानी का कनेक्शन होगा। समावेशी विकास के लिए सुरक्षित पेयजल और स्वच्छता तक पहुंच को महत्वपूर्ण बताते हुए श्री धनखड़ ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन और जल जीवन मिशन जैसे कार्यक्रम ‘अंत्योदय’ यानी अंतिम व्यक्ति के उत्थान के गांधीवादी सपनों को पूरा कर रहे हैं।

श्री धनखड़ ने स्थानीय, क्षेत्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर सभी जन प्रतिनिधियों को सामुदायिक भागीदारी के माध्यम से और योजना पर रचनात्मक प्रतिक्रिया प्रदान करके इस कार्यक्रम की सफलता सुनिश्चित करने के लिए कहा।

उन्होंने कहा कि इस योजना में ‘गुणवत्ता, मात्रा और निरंतरता’ बनाए रखनी चाहिए और इनके लिए जवाबदेही तय होनी चाहिए।

सत्या अशोक

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *