National :नीतीश ने की शरद पवार से मुलाकात, विपक्षी एकता पर की चर्चा

नयी दिल्ली, 07 सितम्बर : बिहार के मुख्यमंत्री एवं जनता दल (यू) के शीर्ष नेता नीतीश कुमार ने राजधानी के अपने प्रवास के दौरान विपक्षी नेताओं के संपर्क अभियान के क्रम में बुधवार को पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार से मुलाकात की और अगले आम चुनाव से पहले विपक्ष की एकजुटता की संभावनाओं पर चर्चा की।

श्री कुमार दिल्ली में श्री पवार के निवास पर गये और वहां करीब 45 मिनट रहे। बैठक के बाद श्री कुमार ने कहा कि विपक्ष मिलकर चुनाव लड़ेगा तो देश के लिए अच्छा रहेगा। विपक्षी एकजुटता जरूरी है। उन्होंने कहा, “ हमारा निजी कुछ नहीं है, हमारा एक ही मकसद है कि सभी एकजुट हाे जाएं तो देश के लिए बहुत अच्छा होगा। ”

बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में अब तक जिन नेताओं से मुलाकात की है, सबका विपक्षी एकता को लेकर दृष्टिकोण अच्छा रहा है।

श्री कुमार पिछले तीन दिनों में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव, पूर्व केन्द्रीय मंत्री शरद यादव, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव डी राजा जैसे वरिष्ठ विपक्षी नेताओं से मुलाकात कर चुके हैं। श्री कुमार ने श्री मुलायम सिंह यादव से मेदांता अस्पताल में मुलाकात की। श्री यादव इस समय वहां भर्ती हैं। इस दौरान श्री अखिलेश यादव भी उनके साथ थे।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि श्रीमती गांधी विदेश से जब लौट आयेंगी तो वह उनसे मुलाकात के लिए विशेष रूप से दिल्ली आयेंगे।

श्री कुमार ने इस दौरे में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ से शिष्टाचार भेंट की है।

जनता दल (यू) के नेता ने पिछले महीने से भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन तोड़कर राष्ट्रीय जनता दल के फिर से गठबंधन बना लिया था और राज्य सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं। पिछले दिनों तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव श्री कुमार से मिलने पटना गये थे। श्री कुमार ने कहा है कि उनका प्रधानमंत्री पद का दावेदार बनने का कोई इरादा नहीं है। वह विपक्षी एकता के लिए प्रयास कर रहे हैं जिससे भाजपा को अगले आम चुनाव में सत्ता हटाया जा सके। श्री शरद पवार ने हाल में साफ कर दिया था कि वह प्रधानमंत्री पद के दावेदार नहीं है। उन्होंने राष्ट्रपति चुनाव में भी विपक्ष का साझा उम्मीदवार बनने से इन्कार कर दिया है।

मनोहर.श्रवण

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *