National : प्रधानमंत्री मोदी बोले- नीतीश के नेतृत्व में मिला जनादेश, विकास हमारा पहला एजेंडा

नई दिल्ली, 11 नवम्बर । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) नीतीश कुमार के नेतृत्व में विकास के लिए जनादेश को पूरा करने के लिए जी-जान से काम करेगा। उन्होंने बिहार के जनादेश को  ‘विकास की जीत’ और बिहार के युवाओं की आकांक्षा का प्रतीक बताया।

प्रधानमंत्री मोदी के इस कथन से बिहार में मुख्यमंत्री के रूप में नीतीश कुमार के पदासीन होने को लेकर व्यक्त की जा रही आशंकाओं पर विराम लग गया। राज्य में राजग गठबंधन के सहयोगी दल के रूप में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को नीतीश की जनता दल यूनाईटेड (जदयू) से अधिक सीटें मिली है लेकिन भाजपा का शीर्ष नेतृत्व चुनाव प्रचार के दौरान नीतीश कुमार के नेतृत्व को स्वीकार करने के फैसले पर कायम है।

मोदी ने बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के करीब 24 घंटे बाद भाजपा मुख्यालय में आयोजित ‘धन्यवाद बिहार’ आयोजन में वहां मौजूद कार्यकर्ताओं और समर्थकों को संबोधित किया। मंच पर भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई नेता उपस्थित रहे।

मोदी ने बिहार के जनादेश को एक वाक्य में इस रूप में परिभाषित करते हुए कहा ‘बिहार तो सबसे खास है। अगर आज आप मुझे बिहार के चुनाव नतीजों के बारे में पूछेंगे तो मेरा जवाब भी जनता के जनादेश की तरह साफ है- बिहार में सबका साथ-सबका विकास, सबका विश्वास के मंत्र की जीत हुई है।’

उन्होंने कहा कि बिहार के मतदाताओं ने यह साबित कर दिया है कि आखिर इस राज्य को लोकतंत्र की जन्मभूमि क्यों कहा जाता है। उन्होंने कहा कि इस जनादेश में ‘बिहार में विकास के कार्यों की जीत हुई है ।बिहार में सच जीता है, विश्वास जीता है !बिहार का युवा जीता है, माताएं-बहनें-बेटियां जीती हैं! बिहार का गरीब जीता है, किसान जीता है! ये बिहार की आकांक्षाओं की जीत है, बिहार के गौरव की जीत है।’

एक्जिट पोल के अनुमानों के पूरी तरह गलत साबित होने के तत्व को उजागर करते हुए मोदी ने राजग की जीत को ‘मौन मतदाताओं’ के फैसले की अभिव्यक्ति बताया। उन्होंने कहा कि बिहार की महिलाओं ने राजग की जनकल्याणकारी नीतियों पर मोहर लगाते हुए चुपचाप राजग की जीत को सुनिश्चित बनाया। उन्होंने कहा कि बिहार की जनता ने अपने फैसले से साबित कर दिया कि राजग के राज में उन्हें सुरक्षा भी है और सम्मान भी। रसोई घर से लेकर जीवन को आसान बनाने वाली सरकार की नीतियों के बारे में महिलाओं के समर्थन से ही बिहार की जीत संभव हो पाई। इसके लिए उन्होंने राज्य की माताओं, बहनों और बेटियों के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने इस तथ्य पर भी जोर दिया कि बिहार के युवाओं ने अपनी आशा-आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए राजग पर ही भरोसा जताया।

मोदी ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता तेजस्वी यादव का नाम लिए बिना परिवारवादी और परिवार की पार्टियों पर जोरदार हमला किया। उन्होंने कहा कि परिवारवादी और परिवार की पार्टियां देश के लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं।

प्रधानमंत्री ने पश्चिम बंगाल और केरल का नाम लिए बिना कहा कि कुछ राज्यों में भाजपा कार्यकर्ता की हत्याओं का सिलसिला जारी है। उन्होंने कहा ‘मौत का यह खेल बंद होना चाहिए।’

परिवारवादी राजनीति को देश के लोकतंत्र के लिए बड़ा खतरा बताते हुए मोदी ने कहा कि कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक देश में परिवारवादी राजनीति का बोलबाला दिखाई देता है। कांग्रेस की ओर संकेत करते हुए उन्होंने कहा कि यह गौर करने वाली बात है कि देश की एक प्रमुख राष्ट्रीय पार्टी भी जिसने दशकों तक देश पर शासन किया है। परिवारवादी राजनीति के चंगुल में फंसी है। इसके विपरीत भाजपा परिवारवादी राजनीति से मुक्त है।

मोदी ने कार्यक्रम में अपने द्वारा लगाए गए इस नारे का उल्लेख किया ‘भाजपा अध्यक्ष नड्डा जी आगे बढ़ो, हम तुम्हारे साथ हैं।’ उन्होंने कहा कि भाजपा में ही यह संभव है कि प्रधानमंत्री पार्टी अध्यक्ष के नेतृत्व में आगे बढ़ने की बात कर सकता है।

पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसा का जिक्र करते हुए उन्होंने राज्य सरकार से आग्रह किया कि वह मौत का खेल बंद करे। उन्होंने कहा कि वह चेतावनी देने पर विश्वास नहीं रखते, चेतावनी और लोगों को सबक सिखाने का काम तो मतदाता ही करेंगे।

उन्होंने युवाओं का आह्वान किया कि वह अधिक से अधिक संख्या में भाजपा से जुड़े और देश की विकास यात्रा में सहभागी बनें।

विगत दशकों में  भाजपा के देशव्यापी विस्तार का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि जिन क्षेत्रों में कभी भाजपा की मौजूदगी नही थी वहां आज पार्टी का परचम लहरा रहा है। हार-जीत की परवाह नहीं करते हुए अनवरत जनता के बीच काम करने की कार्य पद्धति का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा ‘हमें जीत में उन्माद नहीं होता, न ही हार में अवसाद होता है।’

मोदी ने देशवासियों को दीपावली की शुभकामना देते हुए ‘वोकल फॉर लोकल’ का मंत्र दोहराया।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *